Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 191733
Date of publication : 25/1/2018 15:39
Hit : 200

वहाबी मंत्री का अजीब बयान , तेल कीमतों में बढ़ोत्तरी को नबी की सुन्नत के अनुरूप बताया

बहरैन के पेट्रोलियम मंत्री तथा बहरैन सेना प्रमुख के बेटे मोहम्मद बिन खलीफा आले खलीफा ने कहा कि विश्व बाजार को देखते हुए बहरैन में बढ़ाई गयी तेल उत्पादों की कीमतें पैग़म्बरे इस्लाम स.अ. की सीरत के अनुरूप हैं ।

विलायत पोर्टल :  प्राप्त जानकारी के अनुसार बहरैन की आले खलीफा तानाशाही के पेट्रोलियम मंत्री ने देश मे बढ़ती पैट्रोल की कीमतों पर अजीबो ग़रीब बयान दिया है । बहरैन के पेट्रोलियम मंत्री तथा बहरैन सेना प्रमुख के बेटे मोहम्मद बिन खलीफा आले खलीफा ने कहा कि विश्व बाजार को देखते हुए बहरैन में बढ़ाई गयी तेल उत्पादों की कीमतें पैग़म्बरे इस्लाम स.अ. की सीरत के अनुरूप हैं । वहाबी मंत्री ने एक हदीस पढ़ते हुए कहा कि जब रसूल के ज़माने में कुछ चीज़ें आसानी से नहीं मिल रही थी तो लोग उनके पास गए और कहा कि आप इन वस्तुओं के दाम तय कर दें तो आपने कहा कि मैं कौन हूँ जो किसी वस्तु के दाम निर्धारित करुँ चीज़ों का मूल्य निर्धारित करने का काम अल्लाह का है । बिन खलीफा ने कहा कि अगर हम सब्सिडी भी दें तो बहरैन में रह रही आधी आबादी विदेशी मूल की है अतः सब्सिडी के रूप में मिलने वाले बजट से उन्हें भी लाभ मिलेगा और यह सही नहीं है ।
.....................


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

हिटलर की भांति विरोधी विचारधारा को कुचल रहे हैं ट्रम्प । ईरान, आत्मघाती हमलावर और आतंकी टीम में शामिल दो सदस्य पाकिस्तानी : सरदार पाकपूर सीरिया अवैध राष्ट्र इस्राईल निर्मित हथियारों की बड़ी खेप बरामद । ईरान को CPEC में शामिल कर सऊदी अरब और अमेरिका को नाराज़ नहीं कर सकता पाकिस्तान। भारत पहुँच रहा है वर्तमान का यज़ीद मोहम्मद बिन सलमान, कई समझौतों पर होंगे हस्ताक्षर । ईरान के कड़े तेवर , वहाबी आतंकवाद का गॉडफादर है सऊदी अरब अर्दोग़ान का बड़ा खुलासा, आतंकवादी संगठनों को हथियार दे रहा है नाटो। फिलिस्तीन इस्राईल मद्दे पर अरब देशों के रुख में आया है बदलाव : नेतन्याहू बहादुर ख़ानदान की बहादुर ख़ातून यह 20 अरब डॉलर नहीं शीयत को नाबूद करने की साज़िश की कड़ी है पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी....