Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 191738
Date of publication : 25/1/2018 17:7
Hit : 273

आतंकी संगठन आईएसआईएस पैदाइश से विनाश तक (4)

गार्जियन, स्पाईजेल की रिपोर्ट और जार्डन, तुर्की और मिस्र के अधिकारियों के अनुसार दाइश जैसे आतंकी संगठन को अमेरिका, इंग्लैंड, फ़्रांस के माहिर ट्रेनरों द्वारा जार्डन, तुर्की और इस्राईल में ट्रेनिंग दी गई थी, इस रिपोर्ट से ज़ाहिर है कि अमेरिका जो केवल दिखावा करने के लिए दाइश का विरोध करता है लेकिन इस आतंकी संगठन द्वारा फैलाया गया आतंक उनकी निगाहों के सामने हुआ और उन्हें दाइश की हर छोटी बड़ी गतिविधियों की पूरी ख़बर थी।


विलायत पोर्टल :  पिछले लेख में आपके सामने आतंकी संगठन दाइश की आर्थिक मज़बूती का राज़ और इस संगठन और अल-क़ायदा के बीच का अहम फ़र्क़ बयान किया गया अब आगे......
ध्यान देने वाली बात यह है कि इस आतंकी संगठन को आर्थिक रूप से मज़बूत होता देख कई देशों से लगातार आतंकी इस संगठन में शामिल हो रहे थे जिसमें से मुख्य रूप से सद्दाम के क़रीबी, कुछ सीरिया और इराक़ी सरकार के विद्रोही, यूरोप के कई लड़ाके, चेचेन्या, बोस्निया, तुर्किस्तान, लीबिया, अफ़ग़ानिस्तान और भी कई देशों के थे, इन देशों से आने वाले लोग सीधे इस आतंकी संगठन में शामिल हो कर बग़दादी के इशारों पर काम कर रहे थे। शुरूआत में बग़दादी का टार्गेट केवल इराक़ में अपनी हुकूमत बनाना था, लेकिन सीरिया के गृह युध्द को देखने के बाद उसकी नीयत ख़राब हो गई और उसने वहां के हालात से फ़ायदा उठाते हुए सीरिया में भी अपने पैर फैला दिए और वहां भी आतंकी गतिविधियां शुरू कर दीं, हालांकि कुछ सूत्रों के अनुसार बग़दादी की नज़र लेबनान, जार्डन और फ़िलिस्तीन पर भी थी लेकिन उसका यह ख़्वाब केवल ख़्वाब ही बन कर रह गया।

सीरिया में घुसपैठ कर के दाइश ने रक़्का, हस्का और दैरुज़्ज़ोर जैसे बड़े शहरों और इराक़ में मूसेल, तिकरित और अल-अंबार जैसे राज्यों और शहरों पर क़ब्ज़ा कर रखा था, और इन इलाक़ों में अपनी ओर से थोपे गए क़ानूनों को इस्लामी हुकूमत का नाम दे कर वहां के लोगों से टैक्स वसूली करता था, और इन जगहों के तेल के कुएं पर अपना क़ब्ज़ा जता के उसकी आमदनी अपनी जेब में भरता जा रहा था, यही सब कारण थे जिनसे दाइश की दिन प्रतिदिन आमदनी बढ़ती जा रही है। कोई भी इंसान, परिवार, संस्था, ट्रस्ट अगर दाइश के आगे नहीं झुकता था तो बग़दादी उसे अपना दुश्मन घोषित कर देता और सबसे रोचक बात यह कि इस्लाम के नाम पर आतंक फैलाने वाले उन्हीं मुसलमानों को काफ़िर ऐलान कर रहे थे जो इनके आतंक को क़ुबूल न करते हुए उनके आतंक से उस इलाके की जनता को बचा रहे थे, इस आतंकी संगठन ने गिरफ़्तार होने वालों, अपने दुश्मनों और उनके साथ धोखा करने वालों के लिए अपनी अदालत बना रखी थी, और यह लोग आरोपियों को ऐसी सज़ा देते जिससे मानवता भी कांप जाती। हक़ीक़त में बग़दादी का सबसे बड़ा हथियार लोगों के दिलों में अपनी दहशत और ख़ौफ़ बिठाना ही था।
गार्जियन, स्पाईजेल की रिपोर्ट और जार्डन, तुर्की और मिस्र के अधिकारियों के अनुसार दाइश जैसे आतंकी संगठन को अमेरिका, इंग्लैंड, फ़्रांस के माहिर ट्रेनरों द्वारा जार्डन, तुर्की और इस्राईल में ट्रेनिंग दी गई थी, इस रिपोर्ट से ज़ाहिर है कि अमेरिका जो केवल दिखावा करने के लिए दाइश का विरोध करता है लेकिन इस आतंकी संगठन द्वारा फैलाया गया आतंक उनकी निगाहों के सामने हुआ और उन्हें दाइश की हर छोटी बड़ी गतिविधियों की पूरी ख़बर थी। और फिर अब बारी इस आतंकी टोले के विनाश की थी, पूरी दुनिया ने देखा जब इस आतंकी संगठन दाइश ने पूरी तरह से मानवता को शर्मसार कर दिया और अमेरिका जैसे देश जो आतंक के सफाया करने की बात करते हैं वह ख़ुद इस संगठन के आतंक को उनको ट्रेनिंग दे कर मज़बूत कर रहे थे, तब कुछ सच्चे मुसलमान जिनमें सुन्नी और शिया दोनों शामिल थे उन्हों ने इराक़ में बुज़ुर्ग मरज-ए- तक़लीद आयतुल्लाह सीस्तानी के दिए गए हुक्म पर अमल करते हुए कफ़न बांध कर मैदान में आ गए और सीरिया हो या इराक़ हर जगह हर छोटे बड़े शहर से उसके सफाये की कमर कस ली। जनरल क़ासिम सुलैमानी हों या अबू इज़्राईल, शहीद हुसैन हमदानी हों या हश्दुश् शअबी के कमांडर हादी अल-आमेरी या और दूसरे बहादुर इस्लामी सिपाही उन्होंने अपनी बेहतरीन रणनीति से न केवल दाइश के क़ब्ज़ा किए हुए शहरों को आज़ाद कराया बल्कि उनको वहां से भागने पर मजबूर किया, हां यह और बात है कि इस काम के लिए हज़ारों जवानों की क़ुर्बानी भी देनी पड़ी।
.....................


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

अफ़ग़ानिस्तान में शांति स्थापना के लिए ईरान का किरदार बहुत महत्वपूर्ण । वालेदैन के हक़ में दुआ हिज़्बुल्लाह के खिलाफ युद्ध की आग भड़काने पर तुला इस्राईल, मोसाद और ज़ायोनी सेना आमने सामने इराक की दो टूक, किसी भी देश के ख़िलाफ़ देश की धरती का प्रयोग नहीं होने देंगे फ़्रांस के दो लाख यहूदी नागरिकों को स्वीकार करेगा अवैध राष्ट्र इस्राईल इस्राईल का चप्पा चप्पा हमारी की मिसाइलों के निशाने पर : हिज़्बुल्लाह जौलान हाइट्स से लेकर अल जलील तक इस्राईल का काल बन गई है नौजबा मूवमेंट । हम न होते तो फ़ारसी बोलते आले सऊद, अमेरिका के बिना सऊदी अरब कुछ नहीं : लिंडसे ग्राहम आले सऊद की बेशर्मी, लापता हाजी सऊदी जेलों में मौजूद ट्रम्प पर मंडला रहा है महाभियोग और जेल जाने का ख़तरा । जॉर्डन के बाद संयुक्त अरब अमीरात ने दमिश्क़ से राजनयिक संबंध बहाल करने की इच्छा जताई क़ुर्आन की तिलावत की फ़ज़ीलत और उसका सवाब ट्रम्प को फ्रांस की नसीहत, हमारे आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप न करे अमेरिका । तुर्की अरब जगत के लिए सबसे बड़ा ख़तरा : अब्दुल ख़ालिक़ अब्दुल्लाह आतंकवाद से संघर्ष का दावा करने वाला अमेरिका शरणार्थियों पर हमले बंद करे : मलाला युसुफ़ज़ई