Tuesday - 2018 Oct 16
Languages
Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 191807
Date of publication : 29/1/2018 6:20
Hit : 210

लेबनान पर अवैध राष्ट्र और अफरीन पर तुर्की के हमले एक समान : इंडिपेंडेंट

अफरीन अस्पताल के प्रबंधक ने तमाम दस्तावेज़ सामने रखने के बाद कहा कि तुर्की के हमलों के बाद से अब तक सिर्फ चार कुर्द लड़ाका मारे गए है तथा उनके सिर्फ दो जख्मियों को यहाँ लाया गया है वर्ना अब तक मारे गए सभी लोग आम नागरिक और किसान हैं ।


विलायत पोर्टल :  प्राप्त जानकारी के अनुसार उत्तर सीरिया के अफरीन में तुर्की के हमलों पर ब्रिटिश समाचार पत्र इंडिपेंडेंट के पत्रकार ने अपनी मैदानी रिपोर्ट में कहा है कि अफरीन के अस्पतालों में भर्ती जख्मियों में अधिकांश लोग आम नागरिक और किसान हैं उनमे कुर्द संगठनों के हथियारबंद लड़ाके न होने के बराबर हैं । रॉबर्ट फ़िस्क़ ने कहा कि जिस रात तुर्की ने अफरीन पर हमला किया लोग सो रहे थे, उनमे से कितने ही लोग सोते रह गए ओर उनकी कभी सुबह ही नहीं हो सकी तथा वह बर्बरता पूर्वक मार डाले गए। तुर्की इस क्षेत्र में कुर्द संगठनों को निशाना बनाने की बात कर रहा है लेकिन इस क्षेत्र में अलग अलग जाती के लोग रहते हैं तुर्की ने ऐसे क्षेत्रों में भी भीषण बमबारी की है जहाँ YPG या अन्य कुर्द संगठनों से जुड़ा कोई एक भी आदमी नहीं है । अफरीन अस्पताल के प्रबंधक ने तमाम दस्तावेज़ सामने रखने के बाद कहा कि तुर्की के हमलों के बाद से अब तक सिर्फ चार कुर्द लड़ाका मारे गए है तथा उनके सिर्फ दो जख्मियों को यहाँ लाया गया है वर्ना अब तक मारे गए सभी लोग आम नागरिक और किसान हैं । इन हमलों की दक्षिणी लेबनान पर अवैध राष्ट्र के हमले या युगोस्लाविया में नाटो और अफ़ग़ानिस्तान और इराक पर अमेरिकी हमलों से तुलना करते हुए राबर्ट फ़िस्क़ ने कहा कि जब में जख्मियों से भरे अस्पतालों में जाता हूँ तो 21 जनवरी को तुर्की का वह बयान याद आता है जब उसने कुर्दों के 70 ठिकानों को तो वहीँ अनातोली प्रेस ने 100 ठिकानों को निशाना बनाने की खबर दी थी ।
................


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :