Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 191979
Date of publication : 7/2/2018 20:7
Hit : 274

ईरान ने अमेरिका के अरमानो पर पानी फेरा : आयतुल्लाह ख़ामेनई

मिडिल ईस्ट मे भी ईरान ने अपनी सैद्धांतिक नीतियों पर चलते हुए अमेरिका के अरमानो पर पानी फेरा है अमेरिका चाहता था कि वह इस क्षेत्र से साम्राज्यवादी शक्तियों के विरुद्ध जारी प्रतिरोधी आंदोलनों को समाप्त कर दे लेकिन हम उसके मुक़ाबले में डट गए तथा अमेरिका को उसके उद्देश्यों में सफल नहीं होने दिया,और आज पूरी दुनिया इस बात की गवाह है कि अमेरिका जो चाहता था उसे हासिल करने में नाकाम रहा और हम जो चाहते थे उसे हासिल करने में कामयाब रहे ।

विलायत पोर्टल :  प्राप्त जानकारी के अनुसार ईरान की इस्लामी क्रांति के सुप्रीम लीडर हज़रत आयतुल्लाह ख़ामेनई ने ईरान की इस्लामी क्रांति की सफलता की वर्षगांठ पर देश की वायु सेना के अधिकारियों और जवानों को सम्बोधित करते हुए कहा कि इस्लामी क्रांति अपने सुनहरे दौर से गुज़र रही है आज ईरान का इस्लामी इंक़ेलाब पहले से कहीं अधिक मज़बूत संगठित और व्यापक है ।
उन्होंने कहा कि आज के क्रन्तिकारी युवा इस्लामी इंक़ेलाब के शुरूआती दौर के क्रांतिकारियों से अधिक दूरदर्शी , जागरूक और जुझारू हैं , इसी कारण आज इस्लामी इंक़ेलाब प्रगति कर रहा है तथा इसका पैग़ाम आम हो रहा है । आयतुल्लाह ख़ामेनई ने ईरान के इस्लामी इंक़ेलाब के विरुद्ध दुश्मनों की साज़िश की ओर संकेत करते हुए कहा कि वह इस्लामी क्रांति के खिलाफ तथाकथित विचारकों , झूठे सिद्धांतकारों और बिकाऊ पत्रकारों का सहारा ले रहे हैं, वह इस्लामी इंक़ेलाब के विरुद्ध प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया से लेकर सोशल मीडिया तक हर स्तर पर प्रयास कर रहे हैं ताकि हमारे लोगों को इस्लामी सत्ता प्रणाली के विरुद्ध भड़का सकें लेकिन हमारे जवान 9 दी, और 22 बहमन जैसे दिनों में विशाल रैली निकाल कर दुश्मन के अरमानो पर पानी फेर देते हैं ।
इस साल भी ईरान का स्वतंत्रता दिवस भव्य तथा यादगार होगा हमारी जानता जान रही है कि अमेरिका हमसे दुश्मनी निभा रहा है । आयतुल्लाह ख़ामेनई ने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर ज़ालिम का मुक़ाबला और उसे ज़लील करना ईरान की सैद्धांतिक नीतियां हैं, दुनिया जानती है कि आज दुनिया में सबसे क्रूर और अत्याचारी सरकार अमेरिकी है, यह सरकार दाइश , आईएसआईएस जैसे आतंकी संगठन से भी ज़ालिम हैं ।
आयतुल्लाह ख़ामेनई ने कहा कि दाइश का गठन करने वाला अमेरिका था और खुद अमेरिका के वर्तमान राष्ट्रपति ने इस बात को अपने चुनाव अभियान के दौरान कहा भी था तथा उन्होंने ही इस आतंकी संगठन को ट्रेनिंग दी तथा हर प्रकार उसकी मदद की ।
मिडिल ईस्ट मे भी ईरान ने अपनी सैद्धांतिक नीतियों पर चलते हुए अमेरिका के अरमानो पर पानी फेरा है अमेरिका चाहता था कि वह इस क्षेत्र से साम्राज्यवादी शक्तियों के विरुद्ध जारी प्रतिरोधी आंदोलनों को समाप्त कर दे लेकिन हम उसके मुक़ाबले में डट गए तथा अमेरिका को उसके उद्देश्यों में सफल नहीं होने दिया,और आज पूरी दुनिया इस बात की गवाह है कि अमेरिका जो चाहता था उसे हासिल करने में नाकाम रहा और हम जो चाहते थे उसे हासिल करने में कामयाब रहे ।
...........................


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

हश्दुश शअबी का आरोप , आईएसआईएस को इराकी बलों की गोपनीय जानकारी पहुंचाता था अमेरिका ईरान के पयाम सैटेलाइट ने इस्राईल और अमेरिका को नई चिंता में डाला सीरिया की स्थिरता और सुरक्षा, इराक की सुरक्षा का हिस्सा : बग़दाद आले सऊद की नई करतूत , सऊदी अरब में खुले नाइट कलब और कैसीनो । अमेरिका ने सीरिया से भाग कर ईरान, रूस और बश्शार असद को शक्तिशाली किया । ज़ुबान के इस्तेमाल के फ़ायदे और नुक़सान । सीरिया के विभाजन की साज़िश नाकाम, अमेरिका ने कुर्दों को दिया धोखा । सीरिया में अमेरिका का स्थान लेंगी मिस्र और संयुक्त अरब अमीरात की सेना । बैतुल मुक़द्दस से उठने वाली अज़ान की आवाज़ पर लगेगी पाबंदी । दमिश्क़ की ओर पलट रहे हैं अरब देश, इस्राईल हारा हुआ जुआरी : ज़ायोनी टीवी शहीद बाक़िर अल निम्र, वह शेर मर्द जिसका नाम सुनकर आज भी लरज़ जाते हैं आले सऊद बश्शार असद की हत्या ज़ायोनी चीफ ऑफ स्टाफ की पहली प्राथमिकता ? यमन के सक़तरी द्वीप पर संयुक्त अरब अमीरात की नज़र क़तर के पूर्व नेता का सवाल, सऊदी अरब में कोई बुद्धिमान है जो सोच विचार कर सके ? अंसारुल्लाह का आरोप , यमन के लिए दूषित भोजन खरीद रहा है डब्ल्यू.एच.पी