Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 193342
Date of publication : 22/4/2018 16:41
Hit : 288

माहे शाबान में रोज़े की अहमियत

इमाम सज्जाद अ.स. अपने असहाब और साथियों को जमा करते और फ़रमाते थे कि ऐ मेरे असहाब! इस महीने की फज़ीलत को जानते हो? यह माहे शाबान है और पैग़म्बर स.अ. फ़रमाते थे कि शाबान मेरा महीना है इसलिए अल्लाह से क़रीब होने और पैग़म्बर स.अ. की मोहब्बत की ख़ातिर इस महीने में रोज़ा रखो, क़सम उस अल्लाह की जिसके क़ब्ज़े में मेरी जान है मैंने अपने वालिद इमाम हुसैन अ.स. और उन्होंने अपने वालिद इमाम अली अ.स. से सुना है कि वह फ़रमाते थे कि जो भी अल्लाह से क़रीब होने और पैग़म्बर स.अ. से मोहब्बत की ख़ातिर रोज़ा रखेगा अल्लाह उससे मोहब्बत करेगा और उसको क़यामत के दिन अपने करम से क़रीब कर देगा और जन्नत उस पर वाजिब कर देगा।

विलायत पोर्टल : पैग़म्बर स.अ. फ़रमाते हैं कि शाबान मेरा महीना है अगर इस महीने कोई एक रोज़ा भी रखेगा तो जन्नत उस पर वाजिब हो जाएगी, कुछ हदीसों में शाबान को सारे महीनों का सरदार भी कहा गया है। (वसाएलुश-शिया, शैख़ हुर्रे आमुली, जिल्द 8, पेज 98) एक रिवायत में इमाम सादिक़ अ.स. से नक़्ल है कि जिस समय माहे शाबान शुरू होता था मेरे जद इमाम सज्जाद अ.स. अपने असहाब और साथियों को जमा करते और फ़रमाते थे कि ऐ मेरे असहाब! इस महीने की फज़ीलत को जानते हो? यह माहे शाबान है और पैग़म्बर स.अ. फ़रमाते थे कि शाबान मेरा महीना है इसलिए अल्लाह से क़रीब होने और पैग़म्बर स.अ. की मोहब्बत की ख़ातिर इस महीने में रोज़ा रखो, क़सम उस अल्लाह की जिसके क़ब्ज़े में मेरी जान है मैंने अपने वालिद इमाम हुसैन अ.स. और उन्होंने अपने वालिद इमाम अली अ.स. से सुना है कि वह फ़रमाते थे कि जो भी अल्लाह से क़रीब होने और पैग़म्बर स.अ. से मोहब्बत की ख़ातिर रोज़ा रखेगा अल्लाह उससे मोहब्बत करेगा और उसको क़यामत के दिन अपने करम से क़रीब कर देगा और जन्नत उस पर वाजिब कर देगा।
सफ़वान से रिवायत नक़्ल हुई है कि इमाम सादिक़ अ.स. मुझ से फ़रमाते थे कि अपने आस पास रहने वाले लोगों को शाबान में रोज़ा रखने के लिए कहो, मैंने कहा आप पर क़ुर्बान हो जाऊं क्या शाबान के रोज़े की कोई फ़ज़ीलत है? इमाम अ.स. ने फ़रमाया हां जिस समय पैग़म्बर स.अ. शाबान के चांद को देखते थे तो अपना पैग़ाम पूरे मदीने में इस तरह पहुंचवाते थे कि एक शख़्स हर गली मोहल्ले में ऐलान करता था कि ऐ मदीने वालों मैं अल्लाह की तरफ़ से भेजा गया हूं जान लो शाबान मेरा महीना है अल्लाह उस पर रहमत नाज़िल करे जिसने इस महीने रोज़ा रख कर मेरी मदद की। (बिहारुल अनवार, अल्लामा मजलिसी, जिल्द 94, पेज 56)
इमाम सादिक़ अ.स. से रिवायत नक़्ल हुई है इमाम अली अ.स. ने फ़रमाया जब से मदीने की गलियों में मुनादी की आवाज़ सुनी है तब से शाबान के रोज़े क़ज़ा नहीं किए और इंशा अल्लाह आगे चल कर भी अल्लाह की मदद से मैं कभी शाबान के रोज़े क़ज़ा नहीं करूंगा। (अल-मुराक़ेबात, पेज 173)
हदीस में मिलता है कि शाबान और रमज़ान के महीने के रोज़े रखना हक़ीक़त में अल्लाह की बारगाह में तौबा करना है। (अल-काफ़ी, शैख़ कुलैनी, जिल्द 4, पेज 93) माहे शाबान के बहुत से आमाल नक़्ल हुए हैं, लेकिन रिवायतों में जिस अमल पर सबसे ज़्यादा ज़ोर दिया गया है वह तौबा और इस्तेग़फ़ार है, इस महीने रोज़ाना 70 बार इस्तेग़फ़ार करना बाक़ी महीनों के 70 हज़ार बार के इस्तेग़फ़ार के बराबर है, इस महीने सदक़ा देने की भी बहुत फ़ज़ीलत बयान हुई है यहां तक कि हदीस में है माहे शाबान में सदक़ा दो चाहे वह सदक़ा आधा खजूर ही क्यों न हो ताकि अल्लाह जहन्नम की आग को तुम्हारे लिए हराम कर दे। (बिहारुल अनवार, जिल्द 94, पेज 72)
माहे शाबान में एक और अहम अमल जैसाकि पहले भी ज़िक्र हुआ है रोज़ा है, इमाम सादिक़ अ.स. से किसी ने माहे रजब के रोज़े के बारे में पूछा तो आपने फ़रमाया शाबान के रोज़े से क्यों ग़ाफ़िल हो? आपसे सवाल किया गया कि माहे शाबान में एक रोज़े का कितना सवाब है? आपने फ़रमाया ख़ुदा की क़सम एक रोज़े का सवाब जन्नत है। (अल-ख़ेसाल, शैख़ तूसी, जिल्द 2, पेज 605) फिर सवाल किया कि इस महीने सबसे बेहतर अमल क्या है? आपने फ़रमाया सदक़ा देना और इस्तेग़फ़ार करना, जिसने इस महीने सदक़ा दिया अल्लाह उसकी तरबियत की ज़िम्मेदारी ख़ुद लेता है। (अल-ख़ेसाल, शैख़ तूसी, जिल्द 2, पेज 605)
माहे शाबान की जुमेरात को रोज़ा रखने का सबसे ज़्यादा सवाब बयान किया गया है, रिवायत में है कि माहे शाबान की हर जुमेरात में आसमानों को सजाया जाता है फिर फ़रिश्ते अल्लाह से कहते हैं कि ख़ुदाया आज के दिन रोज़ा रखने वालों को बख़्श दे और उनकी दुआ क़ुबूल भी होती है। (वसाएलुश-शिया, जिल्द 10, पेज 493) इसी तरह पैग़म्बर स.अ. की हदीस है कि जिसने माहे शाबान में जुमेरात और सोमवार को रोज़ा रखा अल्लाह उसकी 20 दुनिया की और 20 आख़ेरत की दुआओं को क़ुबूल करता है। (अल-एक़बाल, पेज 685) इस महीने में हज़रत मोहम्मद स.अ. और उनकी आल अ.स. पर सलवात की बहुत ताकीद की गई है इसी तरह मुस्तहब नमाज़ों पर भी ज़ोर दिया गया है जिसको मफ़ातीहुल जेनान में इस महीने के आमाल में पढ़ा जा सकता है।
 संक्षेप में इतना समझ लीजिए कि इस महीने में नमाज़, रोज़ा, ज़कात, अम्र बिल मारूफ़, नहि अन मुन्कर, सदक़ा, ग़रीबों और फ़क़ीरों की मदद, वालेदैन के साथ नेकी, पड़ोसियों का ख़्याल और रिश्तेदारों के साथ अच्छे बर्ताव की बहुत ज़्यादा ताकीद की गई है।
.............................


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

इस्राईल की बेबसी, ताक़त के ज़ोर पर हमास को नहीं हटा सकते : लिबरमैन ट्रम्प दुविधा में, सऊदी अरब से संबंध बचाएं या अय्याश युवराज को हत्यारा घोषित करें ? हश्दुश शअबी की अमेरिकी सेना को ना, अलअंबार में सैन्य विमान नहीं उतरने दिया बैरुत की मांग, लेबनान में S-400 मिसाइल डिफेन्स सिस्टम स्थापित करे रूस तुर्की ने सऊदी अरब पर शिकंजा कसा, ख़ाशुक़जी हत्याकांड की ऑडियो क्लिप की लीक आले सऊद में हलचल, मोहम्मद बिन सलमान के विकल्प पर चर्चा तेज़ । ईदे मिलादुन्नबी, बश्शार असद ने दमिश्क़ की सअद बिन मआज़ मस्जिद में आम लोगों के साथ जश्न में भाग लिया । आले ख़लीफ़ा के अत्याचारों के ख़िलाफ़ सड़कों पर उतरा बहरैन। इराक का ऐलान, अमेरिकी प्रतिबंधों को निष्प्रभावी करने के लिए करेंगे ईरान का सहयोग रूस को ईरान के खिलाफ भड़काने के लिए इस्राईल ने शुरू किया नया ड्रामा सऊदी युवराज बिन सलमान है जमाल ख़ाशुक़जी की हत्या का मास्टर माइंड : यनि शफ़क़ क़ाबुल, ईद मिलादुन्नबी समारोह पर हमला, 40 से अधिक की मौत हिज़्बुल्लाह से हार के बाद जीत का मुंह देखने को तरस गया इस्राईल : ज़ायोनी मंत्री शौहर क्या करे कि घर जन्नत की मिसाल हो इस्राईल दहशत में, जौलान हाइट्स पर युद्ध छेड़ सकता है हिज़्बुल्लाह