Thursday - 2018 Sep 20
Languages
Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 194408
Date of publication : 4/7/2018 13:45
Hit : 303

मक्का, वहाबी टोले को रास नहीं आ रही औरतों की आज़ादी, महिला को उतार कर गाड़ी में आग लगाई ।

अय्याश सऊदी युवराज अमेरिका के कहने पर एक ओर जहाँ देश में उदार इस्लाम के नाम पर धर्म के सिद्धांतों को तोड़ मरोड़ रहा है वहीँ महिलाओं के मौलिक अधिकारों में दी गई ज़रा सी छूट भी वहाबी टोले को बर्दाश्त नहीं हो रही है ।

विलायत पोर्टल :  प्राप्त जानकारी के अनुसार एक ओर जहाँ सऊदी अरब का अय्याश युवराज अमेरिका के कहने पर देश में उदार इस्लाम के नाम पर धर्म के सिद्धांतों को तोड़ मरोड़ रहा है वहीँ महिलाओं के मौलिक अधिकारों में दी गई ज़रा सी छूट भी वहाबी टोले को बर्दाश्त नहीं हो रही है । रिपोर्ट के अनुसार सलमा मुसाइद बिन अब्दुल्लाह अल-बरकानी नामक महिला मंगलवार की सुबह पवित्र शहर मक्का में अपनी गाड़ी ड्राइव कर रही थीं, उसी दौरान कट्टरपंथी वहाबियों ने उनकी गाड़ी को रोका और उसमें आग लगा दी। सूत्रों का कहना है कि इस घटना में अल-बरकानी गंभीर रूप से घायल हो गई हैं। इस घटना के बाद, सोशल मीडिया पर मक्का में एक महिला की गाड़ी को आग लगाने का हैश-टैग ट्रैंड कर रहा है। सऊदी अरब विश्व का एकमात्र ऐसा देश था जहां महिलाओं को कई अन्य मौलिक अधिकारों के साथ साथ ड्राइविंग का अधिकार प्राप्त नहीं था। इस देश में 24 जून से महिलाओं को ड्राइविंग की अनुमति दी गई है। आले सऊद शासन के आलोचकों का कहना है कि एक ओर जहाँ आले सऊद शासन महिलाओं को ड्राइविंग का अधिकार दे रहा है तो दूसरी ओर अपने मौलिक अधिकारों के लिए आवाज़ उठाने वालों को जेलों में ठूंसा जा रहा है, जबकि वह शांतिपूर्ण ढंग से अधिक आज़ादी और अधिकारो की मांग कर रहे हैं।
................


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :