Thursday - 2018 July 19
Languages
Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 194409
Date of publication : 4/7/2018 13:59
Hit : 219

बहरैन , जानवरों से बदतर जीवन गुज़ार रहे हैं राजनैतिक बंदी ।

अलवेफ़ाक़ियून न्यूज़ चैनल की रिपोर्ट के अनुसार, बहरैन की आले ख़लीफ़ा सरकार इस देश में क़ैद राजनैतिक क़ैदियों के साथ ऐसा क्रूरतापूर्ण व्यवहार कर रही है कि जैसे उनका उद्देश्य इन सभी क़ैदियों को जेल के भीतर मौत की नींद सुलाना है।
विलायत पोर्टल :  प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार बहरैन की अलग-अलग जेलों में क़ैद राजनीतिक बंदियों की दयनीय व अपमानजनक स्थिति की ख़बरें तो आए दिन सामने आती रहती थीं लेकिन बहरैन के अलजव्व जेल की जो तस्वीरें सोशल मीडिया पर सामने आई हैं उनको देखकर इस्लामी जगत तथा मानवताप्रेमी लोग और कुछ अंतर्राष्ट्रीय मानवाधिकार संगठनों ने गहरी चिंता व्यक्त करते हुए कहा है अलजव्व जेल में क़ैद राजनीतिक क़ैदी अत्याधिक दयनीय परिस्थितियों में अपने जीवन व्यतीत कर रहे हैं। मीडिया सूत्रों के अनुसार बहरैन के सक्रिय मानवाधिकार कार्यकर्ता इब्तेसाम अस्साएग़ का कहना है कि राजनैतिक क़ैदियों के गंभीर रूप से बीमार होने के बावजूद, उन्हें चिकित्सा केंद्रों में स्थानांतरित नहीं किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि, राजनैतिक क़ैदियों की दयनीय स्थिति के बावजूद उन पर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है जिसके कारण बंदियों का स्वास्थ्य दिन प्रतिदिन गिरता जा रहा है और वह नई-नई तरह की बीमारियों से जूझ रहे हैं। बहरैनी मानवाधिकार कार्यकर्ता इब्तेसाम अस्साएग़ की रिपोर्ट के अनुसार, जेल में बिजली काट दी गई है और कैदियों को इस भीषण गर्मी में विभिन्न बीमारियों के साथ एक अत्यंत दयनीय जीवन गुज़ारना पड़ रहा है जो अंतर्राष्ट्रीय मानवाधिकार का खुला उल्लंघन है। रिपोर्ट के अनुसार बंदियों को ऐसा खाना दिया जा रहा है जिसमें कीड़े पड़े रहते हैं और पानी भी ऐसा है कि नालियों का पानी उससे बेहतर होता है, ऐसा खाना खाने के बाद कई क़ैदियों की हालत ऐसी हो जाती है जैसे ज़हर खाने के बाद होती है। अलवेफ़ाक़ियून न्यूज़ चैनल की रिपोर्ट के अनुसार, बहरैन की आले ख़लीफ़ा सरकार इस देश में क़ैद राजनैतिक क़ैदियों के साथ ऐसा क्रूरतापूर्ण व्यवहार कर रही है कि जैसे उनका उद्देश्य इन सभी क़ैदियों को जेल के भीतर मौत की नींद सुलाना है। न्यूज़ चैनल की ओर से यह अपील की गई है कि इन क़ैदियों की मदद के लिए लोग आगे आएं और सभी अंतर्राष्ट्रीय मानवाधिकार संगठनों के दरवाज़े खटखटाएं।
................


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :