Thursday - 2018 Sep 20
Languages
Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 194470
Date of publication : 10/7/2018 17:9
Hit : 591

ज़ायोनी लॉबी में फैले हसन नसरुल्लाह के डर की नहीं है कोई सीमा ।

1992 से इस्राईल हिज़्बुल्लाह नेताओं को ठिकाने लगाने के प्रयास करता रहा है 1992 में ज़ायोनी राष्ट्र ने तत्कालीन हिज़्बुल्लाह प्रमुख सय्यद अब्बास की हत्या की लेकिन कोई उस समय सोच भी नहीं सकता था कि उनकी जगह लेने वाला कोई हसन नसरुल्लाह जैसी चमत्कारिक शख़्सियत रखने वाला भी मौजूद है

विलायत पोर्टल :  प्राप्त जानकारी के अनुसार लेबनान के प्रतिरोधी आंदोलन हिज़्बुल्लाह के जनरल सेक्रेटरी सय्यद हसन नसरुल्लाह की बढ़ती लोकप्रियता के साथ ज़ायोनी लॉबी में फैला उनका डर और बढ़ता जा रहा है । ज़ायोनी लॉबी सय्यद हसन नसरुल्लाह की हत्या की धमकियां देते हुए दावा करती रही है कि इस्राईल ने मोसाद शाबाक की संयुक्त टीम गठित की है जो सय्यद हसन नसरुल्लाह के बारे में जानकारियां जुटा रही हैं लेकिन दशकों बीत जाने के बाद भी इस्राईल अपने बुरे इरादों में नाकाम रहा है । ज़ायोनी संयुक्त सैन्य कमान के मुखिया गैड़ी आइज़नकोट के अनुसार सय्यद हसन नसरुल्लाह की हत्या इस्राईल और हिज़्बुल्लाह के बीच भीषण युद्ध का कारण बनेगी । वहीँ एक ज़ायनी विश्लेषक का कहना है कि इस्राईली नागरिकों के दिलो दिमाग़ पर छाने वाले तथा उनके बीच सकारात्मक छवि रखने वाले नसरुल्लाह की हत्या हिज़्बुल्लाह को विचलित और परेशान कर देगी । इस्राईल 2006 के युद्ध में सय्यद हसन नसरुल्लाह को रास्ते से हटाने के लिए ज़ाहिया क्षेत्र में लगातार बंकर रोधी बमवर्षा करता रहा लेकिन उसे अपने उद्देश्य में सफलता नहीं मिली । इस ज़ायोनी अधिकारी के अनुसार 1992 से इस्राईल हिज़्बुल्लाह नेताओं को ठिकाने लगाने के प्रयास करता रहा है 1992 में ज़ायोनी राष्ट्र ने तत्कालीन हिज़्बुल्लाह प्रमुख सय्यद अब्बास की हत्या की लेकिन कोई उस समय सोच भी नहीं सकता था कि उनकी जगह लेने वाला कोई हसन नसरुल्लाह जैसी चमत्कारिक शख़्सियत रखने वाला भी मौजूद है। ज़ायोनी अधिकारियों के अनुसार हसन नसरुल्लाह चमत्कारिक नेता हैं जमाल अब्दुल नासिर अरब इस्राईल युद्ध में 6 दिन तक इस्राईल के सामने डटे रहे लेकिन सय्यद हसन नसरुल्लाह 4 सप्ताह तक इस्राईल के दांत खट्टे करते रहे । खुद इस्राईल में 80 % ज़ायोनी हसन नसरुल्लाह की एक एक बात पर भरोसा करते हैं जबकि वह अपने नेताओं की बात पर कान भी नहीं धरते ।
........................


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :