Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 195012
Date of publication : 18/8/2018 16:17
Hit : 887

क़राक़ुरम पर्वत की 6250 मीटर ऊंची छोटी पर लहराया इमाम रज़ा अ.स. का परचम ।

पाकिस्तान के सदपारे के ही रहने वाले युवक और प्रसिद्ध पर्वतारोही हसन सदपारे, पहली बार विश्व की सबसे ऊंची चोटी माउंट एवरेस्ट पर हज़रत अब्बास (अ) के परचम को लहरा चुके हैं।
विलायत पोर्टल :  प्राप्त जानकारी के अनुसार, उत्तरी पाकिस्तान के इस्करदू इलाक़े से संबंध रखने वाले प्रसिद्ध पर्वतारोही नज़ीर सदपारे ने 6250 मीटर ऊंचे क़राक़ुरम पहाड़ की सबसे ऊंची चोटी बरगी छूपैक पर पैग़म्बरे इस्लाम स.अ.के उत्तरधिकारी आठवें इमाम हज़रत इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम के परचम को लहराकर एक नया कीर्तिमान स्थापित किया है। याद रहे कि इससे पहले मोहम्मद नज़ीर सदपारे ने पाकिस्तान में स्थित तथा दुनिया की ऊंची चोटियों में से शामिल , “सब्ज़ हेलाली” पर हज़रत अब्बास कर परचम लहराया था। उल्लेखनीय है कि पाकिस्तान के सदपारे के ही रहने वाले युवक और प्रसिद्ध पर्वतारोही हसन सदपारे, पहली बार विश्व की सबसे ऊंची चोटी माउंट एवरेस्ट पर हज़रत अब्बास (अ) के परचम को लहरा चुके हैं। याद रहे कि बरगी छूपैक चोटी पर हज़रत इमाम रज़ा और हज़रत अब्बास (अ) के नाम का परचम लहराने वाले पर्वतारोही नज़ीर सदपारे, 1982 में इस्करदू सदपारे में पैदा हुए और उन्होंने औपचारिक रूप से पहाड़ों पर चढ़ना वर्ष 2009 में आरंभ किया। नज़ीर सदपारे के 7 भाई हैं जिनमें से दो भाइयों की जान भी पहाड़ों पर चढ़ने के दौरान जा चुकी है। मोहम्मद नज़ीर सदपारे के मुताबिक़, वह अबतक 8000 मीटर से ऊंची 5 चोटियों, 7000 मीटर से ऊंची 3 पहाड़ी चोटियों और 5000 मीटर से ऊंची 8 चोटियों पर पहुंचने में कामयाब रहे हैं। नज़ीर सदपारे की इच्छा है कि वह माउंट एवरेस्ट सहित विश्व में मौजूद 8000 मीटर से ऊंची सभी चोटियों पर पहुंचकर हज़रत अब्बास (अ) के परचम को लहरा सकें।
.................


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

यह 20 अरब डॉलर नहीं शीयत को नाबूद करने की साज़िश की कड़ी है पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची इस्लामी इंक़ेलाब की सुरक्षा ज़रूरी , आंतरिक और बाह्र्री दुश्मन कर रहे हैं षड्यंत्र : आयतुल्लाह जन्नती