Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 195616
Date of publication : 7/10/2018 15:55
Hit : 773

ईरान की चेतावनी को गंभीरता से ले नेतन्याहु, भूमध्य सागर में तैरने का अभ्यास शुरू कर दें : अतवान

जनरल सलामी नेतनयाहू को इस प्रकार की नसीहत हवा में नहीं दे रहे हैं, इसलिए कि जिस पद पर वह हैं वह अच्छी तरह जानते हैं कि क्या कह रहे हैं, वह अपने शब्दों का चयन बहुत ध्यानपूर्वक करते हैं और उनके संदेश का एक निर्धारित लक्ष्य होता है, यह चेतावनी केवल मनोवैज्ञानिक युद्ध का हिस्सा नहीं है।
विलायत पोर्टल :  प्राप्त जानकारी के अनुसार ईरान की इस्लामी क्रांति की सरंक्षक सेना आईआरजीसी के वरिष्ठ कमांडर ब्रिगेडियर जनरल हुसैन सलामी ने इस्राईली प्रधानमंत्री नेतन्याहू को सलाह दी है कि वह तैरने की प्रैक्टिस कर लें, इसलिए कि निकट भविष्य में इलाक़े से भागने के लिए उनके पास इसके अलावा और कोई विकल्प नहीं होगा। आईआरजीसी के उप प्रमुख ब्रिगेडियर जनरल हुसैन सलामी ने इस्फ़हान में आईआरजीसी के कमांडरों और अधिकारियों को संबोधित करते हुए कहा, नेतन्याहू को यह समझ लेना चाहिए कि उनके पास इलाक़े से भाग खड़े होने के अलावा और कोई विकल्प नहीं है, इसलिए उन्हें भूमध्य सागर में तैरना सीख लेना चाहिए। जनरल सलामी का यह बयान ऐसी स्थिति में सामने आया है जब इस्राईली अधिकारियों में ईरान फ़ोबिया का खौफ बढ़ता ही जा रहा है और ज़ायोनी प्रधानमंत्री संयुक्त राष्ट्र महासभा में ईरान पर परमाणु हथियारों को छुपाकर रखने के हास्यपद आरोप लगा कर अपनी खिल्ली उड़वाते रहे है। अरबी भाषा के विख्यात समाचार पत्र अख़बार रायुल यौम के संपादक अब्दुल बारी अतवान ने इस संदर्भ में लिखा है कि जनरल सलामी नेतनयाहू को इस प्रकार की नसीहत हवा में नहीं दे रहे हैं, इसलिए कि जिस पद पर वह हैं वह अच्छी तरह जानते हैं कि क्या कह रहे हैं, वह अपने शब्दों का चयन बहुत ध्यानपूर्वक करते हैं और उनके संदेश का एक निर्धारित लक्ष्य होता है, यह चेतावनी केवल मनोवैज्ञानिक युद्ध का हिस्सा नहीं है।
........................


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

बहादुर ख़ानदान की बहादुर ख़ातून यह 20 अरब डॉलर नहीं शीयत को नाबूद करने की साज़िश की कड़ी है पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची