Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 195701
Date of publication : 10/10/2018 16:28
Hit : 284

बहरैन, अल विफाक़ का ऐलान लोकसभा और निकाय चुनाव का करेंगे बहिष्कार

बहरैन इतिहास के सबसे भयावह और काले दौर से गुज़र रहा है 2011 से अब तक सैंकड़ों लोगों को बर्बरता के साथ शहीद किया जा चुका है, 1500 बच्चों और 330 महिलाओं समेत हज़ारों लोगों को गैर क़ानूनी तरीके से बंधक बना कर रखा गया है जिन्हे कड़ी यातनाओं से गुज़रना पड़ रहा है ।
विलायत पोर्टल :  प्राप्त जानकारी के अनुसार बहरैन के सबसे बड़े राजनैतिक तथा देश की जनता का प्रतिनिधित्व करने वाले दल अल विफाक़ ने ऐलान ने किया है कि हम देश में होने वाले औपचारिक चुनावों का बहिष्कार करेंगे । अल विफाक़ के उप प्रमुख हुसैन अल दैही ने कहा कि देश में तानाशाही अपने चरम पर पहुँच चुकी है अभिव्यक्ति की स्वतन्त्रता है ना राजनैतिक स्तर पर कोई आज़ादी , लोगों को विरोध जताने का भी अधिकार नहीं रह गया है, भेदभाव का शिकार लोगों को बलपूर्वक कुचला जा रहा है और हालात दिन प्रतिदिन और बिगड़ रहे हैं। बहरैन इतिहास के सबसे भयावह और काले दौर से गुज़र रहा है 2011 से अब तक सैंकड़ों लोगों को बर्बरता के साथ शहीद किया जा चुका है, 1500 बच्चों और 330 महिलाओं समेत हज़ारों लोगों को गैर क़ानूनी तरीके से बंधक बना कर रखा गया है जिन्हे कड़ी यातनाओं से गुज़रना पड़ रहा है । बहरैन में लोकतंत्र बहाली और तानाशाही के विरुद्ध 50 हज़ार से अधिक धरने प्रदर्शन और रैलियां हो चुकी हैं लेकिन हमारी कहीं सुनवाई नहीं हो रही है बल्कि आले खलीफा तानाशाही 700 से अधिक लोगों की नागरिकता रद्द कर चुकी है।
..............................


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

बहादुर ख़ानदान की बहादुर ख़ातून यह 20 अरब डॉलर नहीं शीयत को नाबूद करने की साज़िश की कड़ी है पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची