Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 195753
Date of publication : 13/10/2018 4:48
Hit : 278

बिन सलमान के सिंहासन की बलि ले सकता है जमाल खाशुक़जी हत्याकांड : फॉरेन पॉलिसी

बुश सीनियर से लेकर ओबामा तक चार अमेरिकी राष्ट्रपतियों के सहायक रह चुके ब्रूस रीड़ल का कहना है कि हालाँकि अभी युवराज को अपने बाप का समर्थन हासिल है लेकिन अगर बिन सलमान को उसके पद से हटा दिया जाये या उसकी हत्या कर दी जाए तो कोई आश्चर्य की बात नहीं है।
विलायत पोर्टल :  प्राप्त जानकारी के अनुसार अमेरिकी की प्रतिष्ठित पत्रिका फॉरेन पॉलिसी के अनुसार आले सऊद के आलोचक पत्रकार जमाल खाशुक़जी की रहस्यमयी गुमशुदगी और उनकी नृशंस हत्या की अटकलें सऊदी अरब के अय्याश युवराज मोहम्मद बिन सलामन की सत्ता से विदाई का कारण बन सकता है।  सऊदी अरब की बिगड़ती आर्थिक स्थिति और बिन सलमान द्वारा नित नए संकटों को आमंत्रित करने की प्रवृति सऊदी तानाशाह और आले सऊद परिवार को यह सोचने पर मजबूर कर सकती है कि बिन सलमान में शासन करने की योग्यता नहीं है । रिपोर्ट के अनुसार अमेरिका के मध्यावधि चुनाव में डेमोक्रेट पार्टी की जीत सऊदी अरब को अमेरिकी हथियारों के निर्यात पर रोक लगाने में सहायक साबित होगी।  बुश सीनियर से लेकर ओबामा तक चार अमेरिकी राष्ट्रपतियों के सहायक रह चुके ब्रूस रीड़ल का कहना है कि हालाँकि अभी युवराज को अपने बाप का समर्थन हासिल है लेकिन अगर बिन सलमान को उसके पद से हटा दिया जाये या उसकी हत्या कर दी जाए तो कोई आश्चर्य की बात नहीं है।  उन्होंने कहा कि इन सबके बावजूद ट्रम्प प्रशासन इस मुद्दे पर कोई प्रभावी क़दम नहीं उठाएगा क्योंकि ट्रम्प मानवाधिकारों को कोई अहमियत नहीं देते ।
..........................


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची इस्लामी इंक़ेलाब की सुरक्षा ज़रूरी , आंतरिक और बाह्र्री दुश्मन कर रहे हैं षड्यंत्र : आयतुल्लाह जन्नती आख़ेरत में अंधेपन का क्या मतलब है....