Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 197302
Date of publication : 1/1/2019 16:32
Hit : 279

भारत ने दी ईरान को बड़ी राहत, तेल के लिए रुपये से पेमेंट के बाद अब टैक्स में भी छूट

किसी भी विदेशी कंपनी की भारतीय बैंकों में जमा अपनी आय पर भारी टैक्स का भुगतान करना पड़ता है। 40 फीसदी विदहोल्डिंग टैक्स के अलावा अन्य चार्ज मिलाकर यह 42.5 फीसदी बैठता है। अब भारत ने ईरान को विदहोल्डिंग टैक्स से मुक्त कर दिया है।

विलायत पोर्टल :  प्राप्त जानकारी के अनुसार अमेरिका की तरफ से वैश्विक प्रतिबंध झेल रहे ईरान को भारत सरकार ने एक बड़ी राहत दी है। वित्त मंत्रालय ने नैशनल ईरानियन ऑइल कंपनी (NIOC) को रुपये में हुए पेमेंट को भारी-भरकम विदहोल्डिंग टैक्स से मुक्त कर दिया है। रॉयटर्स की रिपोर्ट के मुताबिक यह राहत 28 दिसंबर को दी गई है लेकिन 5 नवंबर से ही प्रभावी मानी जाएगी। इस राहत के बाद अब भारतीय रिफाइनरियां NIOC के साथ लंबित 1.5 अरब डॉलर के पेमेंट का सेटलमेंट कर पाएंगी। अमेरिका द्वारा अंतरराष्ट्रीय बाजार में प्रतिबंध लगाने के बाद ईरान और भारत ने 2 नवंबर को एक समझौता किया था इसके तहत दोनों देशों ने अपने तेल व्यापार के भुगतान को रुपये में भारत के सरकारी यूको बैंक के माध्यम से करने का फैसला किया था। हालांकि किसी भी विदेशी कंपनी की भारतीय बैंकों में जमा अपनी आय पर भारी टैक्स का भुगतान करना पड़ता है। 40 फीसदी विदहोल्डिंग टैक्स के अलावा अन्य चार्ज मिलाकर यह 42.5 फीसदी बैठता है। अब भारत ने ईरान को विदहोल्डिंग टैक्स से मुक्त कर दिया है। ईरान यूको बैंक की मदद से रुपये में हुए भुगतान को विभिन्न मदों में खर्च कर सकता है। रॉयटर्स ने भारतीय दस्तावेजों का रिव्यू कर बताया है कि ईरान इस पैसे को भारत से होने वाला आयात, यहां चलने वाले ईरानियन मिशन, भारतीय प्रॉजेक्ट्स में सीधे निवेश और भारत में ईरान के स्टूडेंट्स को वित्तीय मदद देने में कर सकता है। ईरान इस पैसे को भारत सरकार के डेब्ट सिक्यॉरिटीज में भी इन्वेस्ट कर सकता है। एक अधिकारी ने नाम छिपाए जाने की शर्त पर बताया है कि पहले ईरान इस पैसे का इस्तेमाव केवल भारत से किए जाने वाले आयातों पर कर सकता था। इस बार भारत ने दोनों देशों का फायदा देखते हुए इस फंड के इस्तेमाल का स्कोप बढ़ा दिया है। हालांकि टैक्स की यह राहत केवल क्रूड ऑइल पर ही मिलेगी, खाद, एलपीजी या वैर्स के आयात पर यह राहत नहीं है। बता दें कि चीन के बाद भारत ईरान के तेल का दूसरा सबसे बड़ा ग्राहक है। अमेरिकी प्रतिबंध प्रभावी होने के बाद से ही भारत ने ईरान को रुपये में भुगतान करना शुरू कर दिया था। ऑइल मिनिस्ट्री के जॉइंट सेक्रटरी संजय सुधीर का कहना है कि इस नए बदलाव के बाद भारतीय रिफाइनरियों को पेमेंट में आने वाली बाधाओं से राहत मिलेगी। ईरान के तेल की सबसे बड़ी भारतीय खरीदार इंडियन ऑइल के एक उच्चाधिकारी ने बताया कि उनकी कंपनी ईरान को जनवरी से भुगतान शुरू कर देगी।
......................


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

यह 20 अरब डॉलर नहीं शीयत को नाबूद करने की साज़िश की कड़ी है पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची इस्लामी इंक़ेलाब की सुरक्षा ज़रूरी , आंतरिक और बाह्र्री दुश्मन कर रहे हैं षड्यंत्र : आयतुल्लाह जन्नती