Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 56602
Date of publication : 30/7/2014 22:11
Hit : 516

इस्राईली बर्बरता, महिलाओं और बच्चों समेत 113 और लोग शहीद।

इस्राईली दरिंदों नें हमास के लीडर और पूर्व प्रधानमंत्री इस्माईल हनिया के घर पर भी बमबारी की, घर ख़ाली होने की वजह से कोई जानी नुक़सान नहीं हुआ है। इसके अलावा इस्राईल नें हमास के समर्थक टीवी चैनल अल अक़सा की बिल्डिंग को भी अपना निशाना बनाया।

इस्राईली दरिंदों नें हमास के लीडर और पूर्व प्रधानमंत्री इस्माईल हनिया के घर पर भी बमबारी की, घर ख़ाली होने की वजह से कोई जानी नुक़सान नहीं हुआ है। इसके अलावा इस्राईल नें हमास के समर्थक टीवी चैनल अल अक़सा की बिल्डिंग को भी अपना निशाना बनाया।
ग़ज़्ज़ा में ज़ायोनी फ़ौजियों की तरफ़ से फ़िलिस्तीनियों का नरसंहार जारी है, आज होने वाले हमलों में 113 और फ़िलिस्तीनियों को शहीद कर दिया गया है। ग़ज़्ज़ा पट्टी न्यूज़ एजेंसी की रिपोर्ट के अनुसार इस्राईली फ़ौज की बमबारी से आज के दिन अब तक 113 फ़िलिस्तीनी शहीद हो चुके हैं जिसके बाद शहीद होने वाले फ़िलिस्तीनयों की संख्या 1200 से ज़्यादा हो गई है। ज़ायोनी दरिंदों नें हमास के लीडर और पूर्व प्रधानमंत्री इस्माईल हानिया के घर पर भी बमबारी की, घर ख़ाली होने की वजह से कोई जानी नुक़सान नहीं हुआ है। इसके अलावा इस्राईल नें हमास के समर्थक टीवी चैनल अल अक़सा की बिल्डिंग को भी अपना निशाना बनाया। ईदुल फ़ित्र के दिन ग़ज़्ज़ा में एक पार्क पर इस्राईली हमलों में 8 बच्चों समेत 10 फ़िलिस्तीनी नागरिकों की शहादत के बाद एक इस्राईली गाँव पर हमला कर दिया, जिसमें 4 ज़ायोनियों की मौत हो गई, जिसके बाद ग़ज़ा में जारी ख़ूँरेज़ी में मरने वाले यहूदियों की संख्या 57 हो गई है।
हमास के भरपूर जवाब पर इस्राईली प्रधानमंत्री नितेन याहू नें ग़ज़्ज़ा पर अपने हमले लम्बे समय तक जारी रखने की धमकी दे दी है। अपने एक बयान में उन्होंने कहा कि हम अपने नागरिकों, फ़ौजियों और बच्चों को सुरक्षा सम्बंधी पॉलिसी की सफलता तक हमले जारी रखेंगे।


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

यह 20 अरब डॉलर नहीं शीयत को नाबूद करने की साज़िश की कड़ी है पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची इस्लामी इंक़ेलाब की सुरक्षा ज़रूरी , आंतरिक और बाह्र्री दुश्मन कर रहे हैं षड्यंत्र : आयतुल्लाह जन्नती