Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 59526
Date of publication : 18/9/2014 21:51
Hit : 432

इराक़ी राष्ट्रपतिः

पेरिस कॉन्फ़्रेंस में ईरान की मौजूदगी ज़रूरी थी।

इराक़ के राष्ट्रपति फ़ुवाद मासूम ने पेरिस में अमेरिकी गठबंधन की बैठक पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि पेरिस बैठक में ईरान की मौजूदगी ज़रूरी थी। इरना की रिपोर्ट के अनुसार फ़ुवाद मासूम ने लंदन से प्रकाशित होने वाले दैनिक अलहयात को इंटरव्यू देते हुए कहा कि ईरान क्षेत्र का हिस्सा है और इराक का पड़ोसी है और उसके साथ इराक की लगभग एक हजार किलोमीटर साझा सीमा है



विलायत पोर्टलः इराक़ के राष्ट्रपति फ़ुवाद मासूम ने पेरिस में अमेरिकी गठबंधन की बैठक पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि पेरिस बैठक में ईरान की मौजूदगी ज़रूरी थी। इरना की रिपोर्ट के अनुसार फ़ुवाद मासूम ने लंदन से प्रकाशित होने वाले दैनिक अलहयात को इंटरव्यू देते हुए कहा कि ईरान क्षेत्र का हिस्सा है और इराक का पड़ोसी है और उसके साथ इराक की लगभग एक हजार किलोमीटर साझा सीमा है। इराकी राष्ट्रपति ने आतंकवाद के खिलाफ़ संघर्ष में ईरान की भूमिका की ओर इशारा करते हुए कहा कि इराकी कुरदिस्तान पर दाइश के हमले के समय वह ईरान ही था जिसने पहले ही दिन मदद की। इराकी प्रधानमंत्री ने बग़दाद के तेहरान से जुड़े होने के दावों के बारे में खुलकर कहा कि इराक़, ईरान के अधीन नहीं है। उधर इराकी विदेशमंत्री ने विश्व समुदाय से मांग की है कि वह दाइश आतंकवादी गुट के संबंध में संयुक्त पॉलिसी अपनाएं। इराक़ी समाचार एजेंसी नहरैन न्यूज़ के अनुसार विदेश मंत्री इब्राहीम जाफ़री के कार्यालय ने एक बयान जारी करके कहा कि विदेश मंत्री ने सीरिया के मामलों में संयुक्त राष्ट्र के विशेष दूत स्टीफन डी मीस्टोरा से मुलाकात में कहा कि इराक और सीरिया में दाइश के खतरों से मुक़ाबले के लिए दोहरा रवैया नहीं रखा जा सकता। इब्राहीम जाफ़री ने बैठक में जोर दिया कि विश्व समुदाय को चाहिए कि दुनिया के किसी भी कोने में दाइश के आतंकवादियों की ओर से लोगों के नरसंहार, लूट, चोरी, डकैती और महिलाओं के बलात्कार जैसे मानवता के खिलाफ अपराध से मुकाबले के लिए समान रवैया अपनाए। उन्होंने इसी तरह कहा कि उनका देश क्षेत्रीय देशों के साथ सहयोग करने और साझा दुश्मनों से संघर्ष की कोशिश में विस्तार के लिए तैयार है।


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

जॉर्डन के बाद संयुक्त अरब अमीरात ने दमिश्क़ से राजनयिक संबंध बहाल करने की इच्छा जताई क़ुर्आन की तिलावत की फ़ज़ीलत और उसका सवाब ट्रम्प को फ्रांस की नसीहत, हमारे आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप न करे अमेरिका । तुर्की अरब जगत के लिए सबसे बड़ा ख़तरा : अब्दुल ख़ालिक़ अब्दुल्लाह आतंकवाद से संघर्ष का दावा करने वाला अमेरिका शरणार्थियों पर हमले बंद करे : मलाला युसुफ़ज़ई बिन सलमान इस्राईल का सामरिक ख़ज़ाना, हर प्रकार रक्षा करें ट्रम्प : नेतन्याहू लेबनान इस्राईल सीमा पर तनाव, लेबनान सेना अलर्ट हिज़्बुल्लाह की पहुँच से बाहर नहीं है ज़ायोनी सेना, पलक झपकते ही नक़्शा बदलने में सक्षम हिंद महासागर में सैन्य अभ्यास करने की तैयारी कर रहा है ईरान हमास से मिली पराजय के ज़ख्मों का इलाज असंभव : लिबरमैन भारत और संयुक्त अरब अमीरात डॉलर के बजाए स्वदेशी मुद्रा के करेंगे वित्तीय लेनदेन । सामर्रा पर हमले की साज़िश नाकाम, वहाबी आतंकियों ने मैदान छोड़ा फ़्रांस, प्रदर्शनकारियों को कुचलने के लिए टैंक लेकर सड़कों पर उतरे सुरक्षा बल । अमेरिका ने दुनिया को बारूद का ढेर बना दिया, अलक़ायदा और आईएसआईएस अमेरिका की देन : ज़रीफ़ क़ुर्आन की निगाह में इंसान की अहमियत