Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 59527
Date of publication : 18/9/2014 22:6
Hit : 548

आतंकवादी समूह दाइश के खिलाफ़ अमेरिकी गठबंधन, एक मज़ाक़ है।

ष्ट्रपति हसन रूहानी ने बेगुनाहों का सिर काटने जैसी इस आतंकवादी गिरोह की घिनौनी कार्यवाहियों की निंदा करते हुए कहा कि इस्लामी सिद्धांत और शिक्षाओं की दृष्टि से, किसी भी निर्दोष इंसान का ख़ून बहाना, सभी इंसानों की हत्या के समान है और इसलिए बेगुनाहों का सिर काटने से संबंधित इस आतंकवादी समूह की क्रूर कार्यवाहियां, पूरी मानवता को मारने समान है


विलायत पोर्टलः ईरान के राष्ट्रपति डाक्टर हसन रूहानी ने आतंकवाद के खिलाफ़ अमेरिकी गठबंधन को हास्यास्पद बताया है। रिपोर्ट के अनुसार ईरान के राष्ट्रपति डाक्टर हसन रूहानी ने अमेरिकी समाचार चैनल, एनबीसी से बातचीत करते हुए आतंकवादियों के हाथों निर्दोषों की हत्या और नरसंहार की निंदा की है। ईरान के राष्ट्रपति डाक्टर हसन रूहानी ने यह बात जोर देकर कही कि आतंकवादी समूह, पूरी इंसानियत को खत्म करने की कोशिश में है। राष्ट्रपति हसन रूहानी ने बेगुनाहों का सिर काटने जैसी इस आतंकवादी गिरोह की घिनौनी कार्यवाहियों की निंदा करते हुए कहा कि इस्लामी सिद्धांत और शिक्षाओं की दृष्टि से, किसी भी निर्दोष इंसान का ख़ून बहाना, सभी इंसानों की हत्या के समान है और इसलिए बेगुनाहों का सिर काटने से संबंधित इस आतंकवादी समूह की क्रूर कार्यवाहियां, पूरी मानवता को मारने समान है। उन्होंने कहा कि दाइश की कार्यवाहियां, पूरी दुनिया के लिये चिंता और अफसोस का कारण बने हैं। राष्ट्रपति हसन रूहानी ने आतंकवाद के खिलाफ गठबंधन को हास्यास्पद बताते हुए कहा कि गठबंधन में कुछ ऐसे देश भी शामिल हैं जो आतंकवाद का समर्थन करते रहे हैं।


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

बहादुर ख़ानदान की बहादुर ख़ातून यह 20 अरब डॉलर नहीं शीयत को नाबूद करने की साज़िश की कड़ी है पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची