Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 59659
Date of publication : 21/9/2014 12:46
Hit : 436

ज़रूरी ऐलान।

दीन की सेवा करने और दीन की राह में ख़र्च करने वाले कुवैत के मोमिन व निडर मुजाहिद अल-हाज हसन हबीब जो दीन की राह में हमेशा सक्रिय व दानशील थे, जिन्होंने हिंदुस्तान में मस्जिदों व इमामबाड़ों के बनवाने और फ़क़ीरों व ज़रूरतमंदों की मदद करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है, अब हमारे बीच नहीं रहे और इस दुनिया से कूच कर गये हैं।

انا للہ و انا الیہ راجعون

हिंदुस्तान के तमाम उल्मा और मोमिनीन को बड़े अफ़सोस के साथ यह ख़बर दी जा रही है कि दीन की सेवा करने और दीन की राह में ख़र्च करने वाले कुवैत के मोमिन व निडर मुजाहिद अल-हाज हसन हबीब जो दीन की राह में हमेशा सक्रिय व दानशील थे, जिन्होंने हिंदुस्तान में मस्जिदों व इमामबाड़ों के बनवाने और फ़क़ीरों व ज़रूरतमंदों की मदद करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है, अब हमारे बीच नहीं रहे और इस दुनिया से कूच कर गये हैं। उन्होंनेअपनी ज़िंदगी में हिंदुस्तान सहित दुनिया के विभिन्न देशों में मस्जिदें, इमामबाड़े, यतीमख़ाने बनवाने और ग़रीबों, फक़ीरों व ज़रूरतमंदों की मदद करने तथा ग़रीब शिया जवानों की शादियां कराने जैसे अहेम कामों के लिये पैसा जमा करने में महत्वपूर्ण क़दम उठाये। वह वास्तविक मोमिन, मेहरबान और अनथक मुजाहिद, वली-ए-अम्रे मुस्लेमीन और मराज-ए-केराम का अनुसरण करने वाले इंसान थे। उनकी मौत पर हम उनके परिवार वालों की सेवा में संवेदना व्यक्त करते हुये तमाम मोमिनीन से अपील करते हैं कि उनके ईसाले सवाब के लिये मजलिसों का आयोजन करें और उनके लिये फ़ातेहाख़्वानी करायें। आगामी दिनों में हिंदुस्तान में उनकी सेवाओं और ख़िदमतों का शुक्रिया अदा करने के लिये उनके कुवैती दोस्ती की मौजूदगी में नई दिल्ली में एक सभा आयोजित की जायेगी।

महदी महदवीपूर
 21/9/2014


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :