Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 60332
Date of publication : 28/9/2014 19:3
Hit : 296

ईरानी संसद की ओर से राष्ट्रपति के रुख की सराहना।

ईरान की संसद के मिम्बर्स ने ईरानी राष्ट्रपति की ओर से संयुक्त राष्ट्र महासभा में ईरानी राष्ट्र के अधिकारों की प्रतिरक्षा को सराहा है।


विलायत पोर्टलः ईरान की संसद के मिम्बर्स ने ईरानी राष्ट्रपति की ओर से संयुक्त राष्ट्र महासभा में ईरानी राष्ट्र के अधिकारों की प्रतिरक्षा को सराहा है। इरना की रिपोर्ट के अनुसार संसद ने आज एक बयान जारी करके महासभा की बैठक में ईरानी राष्ट्र की प्रतिरक्षा विशेषकर शांतिपूर्ण परमाणु ऊर्जा के इस्तेमाल के अधिकार के संबंध में राष्ट्रपति के पक्ष को सही और सटीक बताया है। इसी प्रकार ईरान के सांसदों ने अपने बयान में सीरिया और इराक़ में दाइश विरोधी गठबंधन के शीर्षक से अमेरिकियों के अनुचित हस्तक्षेप और आतंकवाद के खिलाफ़ हास्यास्पद नाटक के संबंध में राष्ट्रपति के रुख को भी सराहा है।  ईरानी संसद मजलिसे शूरा-ए-इस्लामी के मिम्बर्स ने अपने बयान में ब्रिटिश प्रधानमंत्री डेविड कैमरून के ईरान के आंतिरक मामलों के हस्तक्षेप पर आधारित घृणित व अपमानजनक बयान की निंदा करते हुए कहा कि उनके बयान से पता चलता है कि बूढ़े साम्राज्य ने अभी तक इस्लामी क्रांति की सच्चाई को नहीं परखा है और ब्रिटेन से ईरानी राष्ट्र की नफ़रत व घृणा का उन्होंने अनुमान नहीं लगाया है। 


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

हिज़्बुल्लाह के ख़िलाफ़ इस्राईल ने कोई क़दम उठाया तो पूरा मिडिल ईस्ट सुलग जाएगा : नेशनल इंटरेस्ट यूरोप ईरान के साथ वैज्ञानिक और आर्थिक सहयोग बढ़ाने को उत्सुक : जर्मनी अफ़ग़ानिस्तान में शांति स्थापना के लिए ईरान का किरदार बहुत महत्वपूर्ण । वालेदैन के हक़ में दुआ हिज़्बुल्लाह के खिलाफ युद्ध की आग भड़काने पर तुला इस्राईल, मोसाद और ज़ायोनी सेना आमने सामने इराक की दो टूक, किसी भी देश के ख़िलाफ़ देश की धरती का प्रयोग नहीं होने देंगे फ़्रांस के दो लाख यहूदी नागरिकों को स्वीकार करेगा अवैध राष्ट्र इस्राईल जौलान हाइट्स से लेकर अल जलील तक इस्राईल का काल बन गई है नौजबा मूवमेंट । हम न होते तो फ़ारसी बोलते आले सऊद, अमेरिका के बिना सऊदी अरब कुछ नहीं : लिंडसे ग्राहम आले सऊद की बेशर्मी, लापता हाजी सऊदी जेलों में मौजूद इस्राईल का चप्पा चप्पा हमारी मिसाइलों के निशाने पर : हिज़्बुल्लाह ट्रम्प पर मंडला रहा है महाभियोग और जेल जाने का ख़तरा । जॉर्डन के बाद संयुक्त अरब अमीरात ने दमिश्क़ से राजनयिक संबंध बहाल करने की इच्छा जताई क़ुर्आन की तिलावत की फ़ज़ीलत और उसका सवाब ट्रम्प को फ्रांस की नसीहत, हमारे आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप न करे अमेरिका ।