Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 60885
Date of publication : 8/10/2014 19:1
Hit : 527

इराक़ी फ़ौज की कामयाबी

दाइश का एक महत्वपूर्ण नेता ढ़ेर।

इराक़ी मीडिया ने आतंकवादी समूह दाइश के एक महत्वपूर्ण आतंकवादी सरग़ना “शाकिर वहीब फहदावी” की मारे जाने की खबर दी है।



विलायत पोर्टलः इराक़ी मीडिया ने आतंकवादी समूह दाइश के एक महत्वपूर्ण आतंकवादी सरग़ना “शाकिर वहीब फहदावी” की मारे जाने की खबर दी है। इराक़ी सेना के प्रवक्ता ने इराकी मीडिया को इंटरव्यूव देते हुए कहा है कि दाइश का यह सरगना “अलरेमादी” क्षेत्र में सेना के हवाई हमले में मारा गया है। रशीद फलीह ने कहाः अलरेमादी के “हैत” क्षेत्र में इराकी फ़ौज के हवाई हमले में शाकिर वहीब की मौत निश्चित रूप से हो चुकी है और उसके शव की पहचान की जा चुकी है। इराकी फ़ौज के प्रवक्ता ने कहाः शाकिर वहीब जो दाइश का एक महत्वपूर्ण सरगना था और बहुत से आम लोगों और इराकी सैनिकों की गर्दन काटी थी, आज वह जहन्नम रवाना हो गया है और इराकी फ़ौज के लिए यह बड़ी उपलब्धि है। ग़ौरतलब है कि दाइश का यह सरग़ना सामाजिक नेटवर्क पर विभिन्न रंग व रूप वाली तस्वीरें प्रकाशित करके जवानों और पश्चिमी लड़कियों को आकर्षित करने की कोशिश करता था।


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

हिज़्बुल्लाह के ख़िलाफ़ इस्राईल ने कोई क़दम उठाया तो पूरा मिडिल ईस्ट सुलग जाएगा : नेशनल इंटरेस्ट यूरोप ईरान के साथ वैज्ञानिक और आर्थिक सहयोग बढ़ाने को उत्सुक : जर्मनी अफ़ग़ानिस्तान में शांति स्थापना के लिए ईरान का किरदार बहुत महत्वपूर्ण । वालेदैन के हक़ में दुआ हिज़्बुल्लाह के खिलाफ युद्ध की आग भड़काने पर तुला इस्राईल, मोसाद और ज़ायोनी सेना आमने सामने इराक की दो टूक, किसी भी देश के ख़िलाफ़ देश की धरती का प्रयोग नहीं होने देंगे फ़्रांस के दो लाख यहूदी नागरिकों को स्वीकार करेगा अवैध राष्ट्र इस्राईल जौलान हाइट्स से लेकर अल जलील तक इस्राईल का काल बन गई है नौजबा मूवमेंट । हम न होते तो फ़ारसी बोलते आले सऊद, अमेरिका के बिना सऊदी अरब कुछ नहीं : लिंडसे ग्राहम आले सऊद की बेशर्मी, लापता हाजी सऊदी जेलों में मौजूद इस्राईल का चप्पा चप्पा हमारी मिसाइलों के निशाने पर : हिज़्बुल्लाह ट्रम्प पर मंडला रहा है महाभियोग और जेल जाने का ख़तरा । जॉर्डन के बाद संयुक्त अरब अमीरात ने दमिश्क़ से राजनयिक संबंध बहाल करने की इच्छा जताई क़ुर्आन की तिलावत की फ़ज़ीलत और उसका सवाब ट्रम्प को फ्रांस की नसीहत, हमारे आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप न करे अमेरिका ।