Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 60886
Date of publication : 8/10/2014 19:31
Hit : 477

अमेरिकी विश्लेक्षक

आले सऊद की पॉलीसी मुसलमानों में फूट डालना।

कोलिन कावेल (colin cavell) ने पश्चिम वर्जीनिया से प्रेस टीवी से बातचीत करते हुए कहा कि सालों साल तक यमन में सऊदी अरब का कंट्रोल रहा है लेकिन विभिन्न कारणों से यमन में सऊदी अरब का क़ट्रोल धीरे धीरे समाप्त होता जा रहा है।



विलायत पोर्टलः कोलिन कावेल (colin cavell) ने पश्चिम वर्जीनिया से प्रेस टीवी से बातचीत करते हुए कहा कि सालों साल तक यमन में सऊदी अरब का कंट्रोल रहा है लेकिन विभिन्न कारणों से यमन में सऊदी अरब का क़ट्रोल धीरे धीरे समाप्त होता जा रहा है। कोलिन कावेल (colin cavell) ने कहा कि इसका मौलिक कारण यह है कि सऊदी अरब यमन में संकट पैदा कर रहा है। यमन की जनता लोकतंत्र के लिये प्रतिबद्ध हैं और वह इस बात से तंग आ चुकी है कि उनके देश पर किसी दूसरे देश की सरकार का क़ट्रोल हो। इस अमेरिकी लेखक ने साफ़ साफ़ कहा कि आले सऊद परिवार यमन में लोकतंत्र चाह रहे क्रांतिकारियों के बीच मतभेद पैदा करने के लिये विभिन्न समूहों का इस्तेमाल कर रहा है। कोलिन कावेल ने कहा कि यमन के शियों को बहरैन और सऊदी अरब के शियों जैसे हमलों का निशाना बनाया जा रहा है और उन्हें राजनीति से किनारे लगा दिये जाने का षड़यंत्र रचा गया है।


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

हिज़्बुल्लाह के ख़िलाफ़ इस्राईल ने कोई क़दम उठाया तो पूरा मिडिल ईस्ट सुलग जाएगा : नेशनल इंटरेस्ट यूरोप ईरान के साथ वैज्ञानिक और आर्थिक सहयोग बढ़ाने को उत्सुक : जर्मनी अफ़ग़ानिस्तान में शांति स्थापना के लिए ईरान का किरदार बहुत महत्वपूर्ण । वालेदैन के हक़ में दुआ हिज़्बुल्लाह के खिलाफ युद्ध की आग भड़काने पर तुला इस्राईल, मोसाद और ज़ायोनी सेना आमने सामने इराक की दो टूक, किसी भी देश के ख़िलाफ़ देश की धरती का प्रयोग नहीं होने देंगे फ़्रांस के दो लाख यहूदी नागरिकों को स्वीकार करेगा अवैध राष्ट्र इस्राईल जौलान हाइट्स से लेकर अल जलील तक इस्राईल का काल बन गई है नौजबा मूवमेंट । हम न होते तो फ़ारसी बोलते आले सऊद, अमेरिका के बिना सऊदी अरब कुछ नहीं : लिंडसे ग्राहम आले सऊद की बेशर्मी, लापता हाजी सऊदी जेलों में मौजूद इस्राईल का चप्पा चप्पा हमारी मिसाइलों के निशाने पर : हिज़्बुल्लाह ट्रम्प पर मंडला रहा है महाभियोग और जेल जाने का ख़तरा । जॉर्डन के बाद संयुक्त अरब अमीरात ने दमिश्क़ से राजनयिक संबंध बहाल करने की इच्छा जताई क़ुर्आन की तिलावत की फ़ज़ीलत और उसका सवाब ट्रम्प को फ्रांस की नसीहत, हमारे आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप न करे अमेरिका ।