Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 61293
Date of publication : 17/10/2014 11:58
Hit : 494

ईदे ग़दीर के मुबारक दिन

नीदरलैंड का एक ईसाई अमीरुल मोमिनीन (अ) के हरम में शिया हो गया।

अमीरुल मोमेनीन हज़रत अली अलैहिस्सलाम के हरम में ईदे ग़दीर के समारोह के दौरान नीदरलैंड का एक ईसाई मुसलमान हो गया।


विलायत पोर्टलः अमीरुल मोमेनीन हज़रत अली अलैहिस्सलाम के हरम में ईदे ग़दीर के समारोह के दौरान नीदरलैंड का एक ईसाई मुसलमान हो गया।

इस रिपोर्ट के अनुसार डच ईसाई “कोरियान वेन लवीन” ने अपने भाई के निर्देश से जो पहले ही से मकतबे अहलेबैत (अ) का मानने वाला है, इस्लामी समुदायों के बारे में रिसर्च करने के बाद शिया मज़हब की भी जानकारी हासिल की और शिया मज़हब के बारे में गहन अध्ययन करने के बाद उन्होंने ईदे ग़दीर के अवसर पर अमीरुल मोमिनीन (अ) के हरम में शहादतैन जारी करने का फैसला कर लिया।

अमीरुल मोमिनीन (अ) के हरम में अंतरराष्ट्रीय मामलों के कार्यालय के प्रमुख सैयद अली शरअ ने नौ मुस्लिम व्यक्ति के बारे में बताते हुए कहा कि इस ईसाई ने शिया धर्म स्वीकार करने के बाद अपना नाम “अली हैदर” रखा है।

उन्होंने बताया कि “कोरियान वेन लवीन” ने इस्लामी समुदायों के बारे में स्टडी की और उसके बाद वह अहलेबैत (अ) के मज़हब के आशिक़ हो गए ताकि इस धर्म को अपनाकर वास्तविक मुसलमान बन जाएं।

सैयद अली शरअ ने अपने भाई की सराहना करते हुए कि उनके भाई ने “कोरियान वेन लवीन” को इस्लाम के अध्ययन करने की ओर प्रेरित किया, कहा: “कोरियान वेन लवीन” ने यह इच्छा जताई कि वह अमीरुल मोमिनीन (अ) के हरम में इस्लाम स्वीकार करें, इसलिए उन्हें यहां बुलाया गया उन्होंने इस नूरानी दिन हरम की ज़ियारत करने के बाद कलमा पढ़ लिया।

अली हैदर ने हरम की ज़ियारत के बाद संक्षिप्त बातचीत में कहा वास्तविक इस्लाम ईदे ग़दीर के दिन अमीरुल मोमिनीन (अ) की बैअत करने के बाद मेरे लिए स्पष्ट हुआ है।

ईद सईद ग़दीर के दिन हरम, अहलेबैत (अ) के चाहने वालों से भरा हुआ था कि इसी बीच हैदर अली ने भी खुद को नूरानी सभा में शामिल कर लिया। ज़ाएरीन ने अली हैदर के शिया होने पर खुशी और प्रसन्नता व्यक्त करते हुए तालियां बजाई और नारे लगाए।


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

बहादुर ख़ानदान की बहादुर ख़ातून यह 20 अरब डॉलर नहीं शीयत को नाबूद करने की साज़िश की कड़ी है पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची