Wed - 2018 Oct 17
Languages
Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 61297
Date of publication : 17/10/2014 15:36
Hit : 387

हज़रत आयतुल्लाह ख़ामेनई

ग़ज़्ज़ा की जीत अल्लाह तआला के वादों के पूरा होने तथा बड़ी जीत की बशारत है

इस्लामी इंक़ेलाब ईरान के सुप्रीम लीडर आयतुल्लाहिल उज़मा सैयद अली ख़ामेनई ने फिलिस्तीनी आंदोलन जिहादे इस्लामी के प्रमुख रमज़ान अब्दुल्लाह से मुलाक़ात में ग़ज़्ज़ा की हालिया पचास दिवसीय जंग में ज़ायोनी शासन के खिलाफ़ फ़िलिस्तीनी जनता और प्रतिरोध समूहों की सफलता पर बेहद खुशी जताते हुए कहा कि ईरान और ईरानी जनता को फ़िलिस्तीन सफलता और दृढ़ता पर गर्व है और हम उम्मीद करते हैं कि निर्णायक जीत तक फिलिस्तीनी गुटों की सफ़लता का सिलसिला जारी रहेगा।

विलायत पोर्टलः रिपोर्ट के अनुसार इस्लामी इंक़ेलाब ईरान के सुप्रीम लीडर आयतुल्लाहिल उज़मा सैयद अली ख़ामेनई ने फिलिस्तीनी आंदोलन जिहादे इस्लामी के प्रमुख रमज़ान अब्दुल्लाह से मुलाक़ात में ग़ज़्ज़ा की हालिया पचास दिवसीय जंग में ज़ायोनी शासन के खिलाफ़ फ़िलिस्तीनी जनता और प्रतिरोध समूहों की सफलता पर बेहद खुशी जताते हुए कहा कि ईरान और ईरानी जनता को फ़िलिस्तीन सफलता और दृढ़ता पर गर्व है और हम उम्मीद करते हैं कि निर्णायक जीत तक फिलिस्तीनी गुटों की सफ़लता का सिलसिला जारी रहेगा।

आयतुल्लाहिल उज़मा सैयद अली ख़ामेनई ने कहा कि आम तौर पर किए जाने वाले विश्लेषण और समीक्षा के अनुसार ज़ायोनी सरकार को, जिसके पास शक्तिशाली सेना और अत्याधुनिक हथियार हैं जंग के शुरुआती दिनों में ही जीत हासिल कर लेनी चाहिए थी लेकिन आखिरकार वह अपने उद्देश्यों की प्राप्ति में विफलता को स्वीकार करने और फिलिस्तीनी गुटों की शर्तों के सामने घुटने टेकने पर मजबूर हो गया।

सुप्रीम लीडर ने मुजाहिदों की मदद और सहायता के बारे में अल्लाह के वादों की ओर इशारा करते हुए कहा कि प्रतिरोध समूहों के लिए जनता का अद्भुत समर्थन और दुश्मन के हवाई हमलों और उसके माध्यम से किए जाने वाले नरसंहार से जिसमें दो हज़ार से ज़्यादा फ़लस्तीनी बच्चे, महिलाएं और नागरिक शहीद हुए भयभीत न होना, यह अल्लाह तआला की कृपा और करम के अलावा और कुछ भी नहीं है।

इस्लामी इंक़ेलाब ईरान के सुप्रीम लीडर आयतुल्लहिल उज़मा सैयद अली ख़ामेनई ने यह बयान करते हुए कि इस्राईल द्वारा इस प्रकार के हमले फिर हो सकते हैं कहा कि प्रतिरोध समूहों को चाहिए कि वह दिन प्रतिदिन अपनी ताक़त और शक्ति को बढ़ाएं और ग़ज़्ज़ा के भीतर अपने को और मज़बूत करें।

इस्लामी इंक़ेलाब ईरान के सुप्रीम लीडर ने ज़ायोनी सरकार से पश्चिमी जॉर्डन के भी फिलिस्तीनी निवासियों को ग़ज़्ज़ा के निवासियों के साथ शामिल करने को एक बुनियादी योजना बताया और कहा कि इस्राईली सरकार के साथ जंग आर पार की लड़ाई है जिसमें अंतिम स्थिति का फैसला होना है इसलिए ऐसे काम करने की ज़रूरत है कि दुश्मन को, जो डर व भय ग़ज़्ज़ा से है वही पश्चिमी जॉर्डन से भी रहे।



आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :