Thursday - 2018 Oct 18
Languages
Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 61378
Date of publication : 19/10/2014 23:14
Hit : 468

सऊदी सरकार अपने हाथों से अपनी क़ब्र खोद रही है।

मरजा-ए-तक़लीद आयतुल्लाह सैयद अली सीस्तानी के प्रतिनिधि ने शेख बाक़िर नम्र की मौत की सज़ा को लागू करने के नतीजे के बारे में चेतावनी देते हुए कहा कि आले सऊद सरकार यह जान ले कि शेख नम्र की मौत की सज़ा पर अमल करके अपने हाथों अपनी कब्र खोदेगी



विलायत पोर्टलः रिपोर्ट के अनुसार मरजा-ए-तक़लीद आयतुल्लाह सैयद अली सीस्तानी के प्रतिनिधि ने शेख बाक़िर नम्र की मौत की सज़ा को लागू करने के नतीजे के बारे में चेतावनी देते हुए कहा कि आले सऊद सरकार यह जान ले कि शेख नम्र की मौत की सज़ा पर अमल करके अपने हाथों अपनी कब्र खोदेगी। नजफ़े अशरफ़ के इमामे जुमा शेख सद्रुद्दीन अल-क़बांची ने जोर दिया कि सऊदी सरकार ने शेख़ नम्र को मौत की सज़ा देकर बहुत बड़ी गलती की है। उनका कहना था कि सऊदी सरकार अपने हाथों से अपनी कब्र खोद रही है।
दूसरी ओर शिया आलिमे दीन शेख़ नम्र से एकजुटता जताने हजारों यमनी नागरिकों ने राजधानी सनआ में सऊदी अरब के दूतावास के सामने प्रदर्शन किया और शेख नम्र की तत्काल रिहाई की मांग की। सऊदी दूतावास के सामने होने वाले प्रदर्शन में प्रदर्शनकारी “हम सब शेख नम्र हैं” और “आज़ादी आज़ादी” के नारे लगा रहे थे। सूत्रों का कहना है कि प्रदर्शनकारियों में अलहौसी आंदोलन के सशस्त्र लोग भी थे लेकिन दूतावास की सुरक्षा में तैनात सुरक्षा कर्मियों और प्रदर्शनकारियों के बीच किसी भी प्रकार की झड़पों की सूचना नहीं है।
प्रदर्शनकारियों ने सऊदी अरब के दूतावास की दीवार पर “हम सब शेख नम्र हैं” आले सऊद मुर्दाबाद और “लब्बैक या महदी” जैसे नारे लिख दिए। इसी तरह ईरान, बहरैन और कई देशों में शेख बाक़िर नम्र की ज़ालिमाना सज़ा के विरोध में व्यापक प्रदर्शन हुए जिनमें प्रदर्शनकारियों ने आले सऊद सरकार के खिलाफ़ जमकर नारेबाजी की। सऊदी अरब के पूर्वी क्षेत्रों में पिछले कई दिनों से प्रदर्शन हो रहे हैं और जनता शेख नम्र को तत्काल रिहा करने की मांग कर रही है। ईरान के स्टूडेंट्स ने भी रविवार को तेहरान में विरोध प्रदर्शन करके सऊदी अरब के बुज़ुर्ग आलिमे दीन आयतुल्लाह शेख नम्र बाक़िर नम्र के समर्थन का ऐलान किया है। प्रदर्शनकारी छात्रों ने भी आले सऊद द्वारा शेख नम्र को फांसी की सज़ा सुनाने की निंदा की। यह प्रदर्शन तेहरान विश्वविद्यालय में हुआ।


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :