Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 61380
Date of publication : 19/10/2014 23:45
Hit : 517

बहरैन में ऑले ख़लीफ़ा की दमनकारी सरकार के ख़िलाफ़ प्रदर्शन।

प्रदर्शनकारियों ने बहरैन में सार्वजनिक जनमत संग्रह की मांग की। प्रदर्शन का उद्देश्य बहरैन में जनमत संग्रह के लिए जन समर्थन हासिल करना था। खबरों में बताया गया है कि सुरक्षाबलों ने प्रदर्शनकारियों पर ज़हरीली गैस के गोले दागे और प्रदर्शनकारियों को आगे बढ़ने से रोक दिया



विलायत पोर्टलः रिपोर्ट के अनुसार राजधानी मनामा में यह प्रदर्शन बहरैन के चौदह फरवरी नामक आंदोलन की दावत पर किया गया।
प्रदर्शनकारियों ने बहरैन में सार्वजनिक जनमत संग्रह की मांग की। प्रदर्शन का उद्देश्य बहरैन में जनमत संग्रह के लिए जन समर्थन हासिल करना था। खबरों में बताया गया है कि सुरक्षाबलों ने प्रदर्शनकारियों पर ज़हरीली गैस के गोले दागे और प्रदर्शनकारियों को आगे बढ़ने से रोक दिया। प्रदर्शनकारियों को रोकने के लिए सैन्य वाहनों का भी सहारा लिया गया और सुरक्षा बलों को प्रदर्शन रोकने के लिए तैनात किया गया है।
खबरों में कहा गया कि बहरैन के क्रांतिकारियों ने अपने संयुक्त बयान में कहा है कि मुहर्रम सरकार विरोधी आंदोलन को तेज करने का सबसे अच्छा मौका है। बहरैनी क्रांतिकारियों का कहना है कि बहरैन की क्रांति का रास्ता इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम के बताए हुई क्रांति का ही रास्ता है। बहरैन के क्रांतिकारियों ने जनता से कहा है कि वह मुहर्रम की मजलिसों और अज़ादारियों के जुलूसों में भरपूर तरीक़े से भाग लेकर आशूरा के फ़लसफ़े और उसके महत्व को उजागर करें।


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :