Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 61551
Date of publication : 22/10/2014 17:37
Hit : 454

आयतुल्लाह नासिर मकारिम शीराज़ी

मजलिसों में दूसरे मज़हबों के अपमान से बचें।

ईरान के मशहूर और बुजुर्ग मरजा-ए-तक़लीद आयतुल्लाह नासिर मकारिम शीराज़ी ने कहा है कि अशरा-ए-मुहर्रम की मजलिसों में कभी भी दूसरे मज़हबों के बुज़ुर्गों का अपमान न किया जाए और दूसरों की मज़हबी भावनाओं को ठेंस न पहुंचाई जाये।


विलायत पोर्टलः ईरान के मशहूर और बुजुर्ग मरजा-ए-तक़लीद आयतुल्लाह नासिर मकारिम शीराज़ी ने कहा है कि अशरा-ए-मुहर्रम की मजलिसों में कभी भी दूसरे मज़हबों के बुज़ुर्गों का अपमान न किया जाए और दूसरों की मज़हबी भावनाओं को ठेंस न पहुंचाई जाये।

रिपोर्ट के अनुसार ईरान के बुज़ुर्ग मरजा-ए-तक़लीद हज़रत आयतुल्लाह नासिर मकारिम शीराज़ी ने इस्लामी इंक़ेलाब की सशस्त्र सेना सिपाहे पासदारान के ख़तीबों, ज़ाकेरीन और नौहाख़ानों से मुलाक़ात में मुबाहेला की बधाई देते हुए कहा कि अशरा-ए-मुहर्रम की मजलिसों में कभी दूसरों के बुज़ुर्गों का अपमान न किया जाये।

उन्होंने कहा कि मुबाहेला में अमीरुल मोमिनीन अली अलैहिस्सलाम को रसूलुल्लाह (स.अ) के नफ़्स व जान के रूप में पेश किया गया है, इस सिलसिले में मौजूद आयतों पर सभी सहमत हैं, मुबाहेला के बारे में हदीस व रिवायतों का मुद्दा नहीं है कि जिसके सही या ग़लत होने के बारे में शक किया जाये, तमाम शिया व सुन्नी मुफ़स्सिर इस बात को क़बूल करते हैं कि आयते मुबाहेला पैग़म्बर इस्लाम (स.अ), हज़रत अली (अ.), हज़रत ज़हरा (स) व हसनैन (अ.ह) के बारे में नाज़िल हुई है।

हज़रत आयतुल्लाह नासिर मकारिम शीराज़ी ने अमीरुल मोमेनीन अली अलैहिस्सलाम की ओर से नमाज़ की हालत में अगूंठी दिये जाने के महत्व के बारे में कहा कि अल्लाह तआला ने फ़रमाया है कि विलायत का पद अल्लाह और पैग़म्बर और नमाज़ की हालत में अंगूठी देने वाले के लिए है। “शिया व सुन्नी उल्मा व मुफ़स्सेरीन ने इस आयत के बारे में कहा है कि बिना शक व संदेह के यह आयत अली इब्ने अबी तालिब अ.ह के लिए नाज़िल हुई है।

हज़रत आयतुल्लाह मकारिम शीराज़ी ने रसूले इस्लाम की हदीस की ओर इशारा करते हुए कि पैग़म्बरे इस्लाम स.अ ने कहा “हुसैन इब्ने अली अलैहिस्सलाम की शहादत की गर्मी मोमिनों के दिलों में है जो हरगिज़ ठंडी नहीं हो सकती है” कहा कि आज हम इसे अपनी आंखों से देख रहे हैं और दिन प्रतिदिन आपकी शहादत की प्रभाव और बरकतों में बढ़ोत्तरी होती जा रही है, जैसा कि रसूले इस्लाम स.अ ने कहा कि इमाम हुसैन अ.ह की आग हरगिज़ ख़ामोश नहीं होगी और क़यामत तक के लिये अमर हो जाएगी।

उन्होंने अशरा-ए-मुहर्रम की मजलिसों में कभी भी दूसरे मज़हबों के अपमान न किए जाने पर बल देते हुए कहा कि इस अपमान के नतीजे में निर्दोष शियों का खून बहाया जाता है। उन्होंने कहा कि एक आदमी ने मुझसे बयान किया कि आत्मघाती हमलों की ट्रेनिंग देने में दूसरों के अपमान की सीडी को दिखा कर उन्हें इस काम के लिये भड़काया जाता है।

हज़रत आयतुल्लाह मकारिम शीराज़ी ने कहा कि आज की दुनिया कल की दुनिया से अलग है, आज अगर कोई किसी बात को कहे तो पूरी दुनिया में प्रसारित होती है, इन परिस्थितियों में वहाबी, शिया और सुन्नी को एक दूसरे के ख़ून का प्यासा बनाना चाहते हैं तो हम इन परिस्थितियों में संयम से काम लें ताकि दुनिया के शियों को मुश्किलों का सामना न करना पड़े। उन्होंने कहा कि शिया व सुन्नी एकजुट हों ताकि वहाबी तकफ़ीरी आतंकवाद के खतरों से सुरक्षित रह सकें।


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची इस्लामी इंक़ेलाब की सुरक्षा ज़रूरी , आंतरिक और बाह्र्री दुश्मन कर रहे हैं षड्यंत्र : आयतुल्लाह जन्नती आख़ेरत में अंधेपन का क्या मतलब है....