Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 61668
Date of publication : 26/10/2014 9:50
Hit : 446

अमेरिका में गोलीबारी की घटनाओं में बढ़ोत्तरी।

अमेरिका में अशांति और गोलाबारी की घटनाएं थमने का नाम नहीं ले रहीं और एक बार फिर एक स्कूल में गोलीबारी की एक घटना घटी है जहां एक स्टूडेंट ने स्कूल के कैफेटेरिया में गोलीबारी की जिससे एक दूसरे स्टूडेंट की मौत हो गई और चार लोग घायल भी हो गए हैं। बाद में हमलावर स्टूडेंट ने खुद को भी गोली मार ली।


विलायत पोर्टलः अमेरिका में अशांति और गोलाबारी की घटनाएं थमने का नाम नहीं ले रहीं और एक बार फिर एक स्कूल में गोलीबारी की एक घटना घटी है जहां एक स्टूडेंट ने स्कूल के कैफेटेरिया में गोलीबारी की जिससे एक दूसरे स्टूडेंट की मौत हो गई और चार लोग घायल भी हो गए हैं। बाद में हमलावर स्टूडेंट ने खुद को भी गोली मार ली।

वाशिग्टन में सिएटल से 55 किलोमीटर दूर मेरीसवील-पिलचुक हाई स्कूल के कैफेटेरिया में शुक्रवार को गोलीबारी की यह घटना घटी। गोलीबारी करने वाले की पहचान जेलेन फ्राइबर्ग के रूप में हुई है। पुलिस ने बताया कि जेलेन फ्राइबर्ग ने बाद में खुद को भी गोली मार कर आत्महत्या कर ली।

आत्महत्या से पहले फ्राइबर्ग ने गोलीबारी करके एक लड़की को मार डाला। इस घटना में दो अन्य लड़कियां और दो लड़के जख्मी हो गए। घायलों को निकट के एक अस्पताल ले जाया गया।  बताया जा रहा है कि 4 घायलों में दो, गोलीबारी करने वाले स्टूडेंट के रिश्तेदार हैं। दोनों के सिर में गोलियां लगी हैं।

ग़ौरतलब है अमेरिका में आये दिन इस प्रकार की घटनाएं होती रहती हैं जिससे अमेरिका पुलिस के नाकारा होने और खुलेआम हथियार रखने के कानून के 100 प्रतिशत गलत होने का भी पता चलता है।


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

बहादुर ख़ानदान की बहादुर ख़ातून यह 20 अरब डॉलर नहीं शीयत को नाबूद करने की साज़िश की कड़ी है पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची