Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 64833
Date of publication : 17/12/2014 12:3
Hit : 367

अबुल इरफ़ान फ़िरंगी महली

आतंकवादी पार्टी तहरीक-ए-तालिबान जहन्नुमी है

पाकिस्तान के पेशावर में तालिबान आतंकवादियों द्वारा स्कूल में बच्चों के नरसंहार के ख़िलाफ़ लखनऊ के मज़हबी लीडरों ने कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। उलमा ने कहा है कि इस घटना की निंदा के लिए शब्द कम हैं। इस तरह का काम करने वाले इस्लाम के मानने वाले नही हो सकते।



हिंदुस्तानी मुस्लिम उल्मा ने पेशावर में बच्चों पर हुए बर्बर आतंकी हमलों की निंदा की।

विलायत पोर्टलः लखनऊ, पाकिस्तान के पेशावर में तालिबान आतंकवादियों द्वारा स्कूल में बच्चों के नरसंहार के ख़िलाफ़ लखनऊ के मज़हबी लीडरों ने कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। उलमा ने कहा है कि इस घटना की निंदा के लिए शब्द कम हैं। इस तरह का काम करने वाले इस्लाम के मानने वाले नही हो सकते।
मौलाना हमीदुल हसन ने कहा कि जब तक इंटरनेश्नल लेविल पर मिलकर नियत साफ़ कर के एक दूसरे का सहयोग नही किया जाएगा यह आतंकवादी यूं ही नुक़सान पहुंचाते रहेंगे। इनको केवल आतंकवादी नही बल्कि इंसानियत के वहशी होने का सबूत है जो कभी सीना चीर कर इंसान के कलेजे को खा जाते हैं। मौलाना ने कहा कि इन लोगों का काम बच्चों पर अत्याचार, औरतों का अपहरण कर उनको बेचना आदि हैं। उन्होंने कहा कि इनकी बर्बर कार्रवाईयों को आस्ट्रेलिया, भारत, इराक़ और सीरिया में देखा जा सकता है।
इंसानियत पसंद लोगों को चाहिए कि वह इन लोगों को ख़त्म करने के बारे में सोचें। मौलाना हमीदुल हसन ने अन्त में सवेंदना व्यक्त करते हुए कहा कि यह बहुत ही दर्दनाक घटना है, पीड़ितों को अल्लाह सब्र दे।
मजलिस-ए-उलमाए हिंद के जनरल सिक्रेट्री और इमामे जुमा लखनऊ मौलाना कल्बे जवाद ने आतंकवादियों द्वारा स्कूल में बच्चों के क़त्ले आम पर दुःख व्यक्त करते हुए कहा कि शुरु में जब इस तरह के हमले शियों पर होते थे तो मौलवी सहित सभी चुप रहते थे, ऐसे ही स्कूलों पर हमले इराक़ और सीरिया में किए गए तो लोग चुप्पी साधे हुए थे समझते थे शियों पर हमले हो रहे हैं। इन्हीं हमलों से आतंकवादियों की हिम्मत बढ़ती रही।
उन्होंने कहा कि पाकिस्तान में आतंकवाद परवान चढ़ा। आतंकवादियों का उद्देश्य नरसंहार करना है। चाहे वह किसी का भी हो। उन्होंने कहा कि हमारी हुकूमत को सीख लेनी चाहिए, यहां पर मजलिस पर हमले हुए वोट की सियासत करने वाले समझते हैं कि शियों पर हमले हैं, ऐसे ही दूसरों पर भी हमले हो सकते हैं क्योंकि वज़ीरगंज में मजलिस पर हमला हुआ उसको हुकूमत दो सम्प्रदायों के बीच झगड़ा न समझे।
ऐसे ही पाकिस्तान में शुरुवात हुई थी। उन्होंने पाकिस्तान में आर्मी स्कूल में मासूम बच्चों के आतंकवादियों द्वारा मारे जाने पर दुःख व्यक्त किया और कहा कि इसका हल केवल एक है कि, सभी धर्मों के लोग एक होकर मुक़ाबला करें, उन्होंने कहा कि मैंने आतंकवाद के ख़िलाफ़ सभी घर्मों के लोगों को एक स्टेज पर लाकर विरोध प्रदर्शन किया। हमारी हुकूमत को चाहिए कि पाकिस्तान के हालात से सीख लेते हुए आतंकवादियों के ख़िलाफ़ कठोर कार्रवाई करे चाहे वह मजलिस पर हमला करने वाले हों या कहीं भी और किसी पर भी आतंकवादी हमला करने वाले हों। मौलाना कल्बे जवाद ने मरने वाले बच्चों के परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त की।
क़ाज़ी-ए-शहर अबुल इरफ़ान फ़िरंगी महली ने कहा कि आतंकवादी पार्टी तहरीक-ए-तालिबान जहन्नुमी है। उन्होंने कहा कि जो लोग इस हमले में शामिल हैं वह जहन्नुमी हैं उन्हें मुसलमान नही कहा जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि इस्लाम में जिहाद के अवसर पर भी बच्चों और औरतों पर अत्याचार करने की मनाही है केवल उन दुश्मनों से जंग करने की अनुमति है जो हमला कर रहे हों। उन्होंने कहा कि यह स्कूली बच्चे हैं इनपर हमला करने वालों को केवल जहन्नम मिलेगी उन्होंने कहा कि आतंकवादियों को मुसलमान कहना इस्लाम के ख़िलाफ़ है।


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

हिज़्बुल्लाह से हार के बाद जीत का मुंह देखने को तरस गया इस्राईल : ज़ायोनी मंत्री शौहर क्या करे कि घर जन्नत की मिसाल हो इस्राईल दहशत में, जौलान हाइट्स पर युद्ध छेड़ सकता है हिज़्बुल्लाह अय्याश सऊदी युवराज का दिमाग़ी संतुलन सही नहीं : लिंडसे ग्राहम ईरान प्रतिरोध का केंद्र और फिलिस्तीन का सच्चा समर्थक : सूर उलमा एसोसिएशन डूबते नेतन्याहू को ईरान परमाणु समझौते का सहारा ? सऊदी तानाशाह ने बोली इस्राईल की भाषा, ईरान के मिसाइल और परमाणु कार्यक्रम को रोके विश्व समुदाय सऊदी अरब पर शिकंजा कसा, जर्मनी ने 18 सऊदी लोगों पर प्रतिबंध लगाया अफ़ग़ानिस्तान के अधिकांश भाग पर तालेबान का क़ब्ज़ा, अमेरिका ने हार मानी ख़ाशुक़जी हत्याकांड के केंद्र में आया "अंधेरों का राजकुमार " आले सऊद शांति चाहते हैं तो यमन जवाबी हमले रोकने को तैयार : अल हौसी आयतुल्लाह फ़ाज़िल लंकरानी र.ह. की ज़िंदगी पर एक निगाह इदलिब, दमिश्क़ ने आतंकी संगठनों के खिलाफ सैन्य अभियान शुरू किया सऊदी अरब के साथ अपने संबंधों पर फिर विचार करे अमेरिका : बर्नी सैंडर्स आंग सान सू ची के साथ बराक ओबामा से भी छीना जाए नोबेल शांति पुरस्कार