Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 64868
Date of publication : 17/12/2014 22:3
Hit : 366

आयतुल्लाह सुबहानी

इस्लामी दुनिया से तकफीरी सोच का अंत बहुत ज़रूरी।

ईरान के बुज़ुर्ग मरजा-ए-तक़लीद ने इस्लामी उल्मा से ताकीद के साथ कहा है कि वह इस्लामी दुनिया से तकफीरी सोच का अंत करें।


विलायत पोर्टलः ईरान के बुज़ुर्ग मरजा-ए-तक़लीद ने इस्लामी उल्मा से ताकीद के साथ कहा है कि वह इस्लामी दुनिया से तकफीरी सोच का अंत करें।
रिपोर्ट के अनुसार ईरान के बुजुर्ग मरजा-ए-तक़लीद हज़रत आयतुल्लाह जाफ़र सुबहानी ने मुस्लिम उल्मा से अपील की है कि वह इस्लामी दुनिया से तकफीरी सोच का अंत करें ताकि निर्दोष इंसानों के क़त्ल व नरसंहार का सिलसिला बंद किया जाए।
हज़रत आयतुल्लाह जाफ़र सुबहानी ने अल-अज़हर मिस्र के अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन में ईरान के प्रतिनिधि अहमद मुबल्लेग़ी के साथ बैठक में कहा कि अफ़सोस की बात है कि अभी भी इस्लामी दुनिया में तकफीरी सोच की किताबें कुछ स्कूलों में पढ़ाई जा रही है जिसका परिणाम मतभेद, आतंकवाद, हिंसा और क़त्ल व नरसंहार है और मुस्लिम उल्मा को चाहिए कि इस समस्या की समाधान के लिए उचित उपाय निकालें।
उन्होंने कहा कि जब तक कि इस्लामी देशों में आतंकवाद व तकफीरियत के कारण खत्म नहीं होगें हम लोग ऐसी घटनाओं को देखने पर मजबूर रहेंगे और उल्मा के कांधों पर इस मुद्दे के हवाले से सख्त जिम्मेदारी है।
हज़रत आयतुल्लाह सुबहानी ने इसी तरह ईरान के पवित्र शहर क़ुम और अल-अज़हर मिस्र में तकफीरी विचारधारा के विरूद्ध सम्मेलन को महत्वपूर्ण बताते हुए कहा कि अफ़सोस की बात है इस समय क्षेत्र में दुश्मनों की वित्तीय मदद और समर्थन की वजह से आतंकवादी गुट निर्दोष लोगों की हत्या कर रहे हैं इसलिए इस महत्वपूर्ण कॉन्फ्रेंस में मुस्लिम उल्मा ने हिस्सा लिया और उनके अत्याचारों व अपराधों की समीक्षा बहुत उपयोगी साबित हुई।


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

अय्याश सऊदी युवराज बिन सलमान ने माँ के बाद अब अपने भाई को बंदी बनाया। क़ासिम सुलेमानी के आदेश पर सीरिया ने इस्राईल पर मिसाइल दाग़े : ज़ायोनी मीडिया यूरोपीय यूनियन के ख़िलाफ़ बश्शार असद का बड़ा क़दम, राजनयिकों का विशेष वीज़ा किया रद्द। अमेरिकी सेना ने माना, इराक युद्ध का एकमात्र विजेता है ईरान । बर्नी सैंडर्स की मांग, सऊदी तानाशाही की नकेल कसे विश्व समुदाय । ईरान विरोधी बैठकों से कुछ हासिल नहीं, यादगारी तस्वीरें लेते रहे नेतन्याहू । हसन नसरुल्लाह का लाइव इंटरव्यू होगा प्रसारित,सऊदी इस्राईली मीडिया की हवा निकली । आले ख़लीफ़ा का यूटर्न , कभी भी दमिश्क़ विरोधी नहीं था बहरैन इदलिब , नुस्राह फ्रंट के ठिकानों पर रूस की भीषण बमबारी । हश्दुश शअबी की कड़ी चेतावनी, आग से न खेले तल अवीव,इस्राईल की ईंट से ईंट बजा देंगे । दमिश्क़ पर फिर हमला, ईरानी हित थे निशाने पर, जौलान हाइट्स पर सीरिया ने की जवाबी कार्रवाई । नहीं सुधर रहा इस्राईल, दमिश्क़ के उपनगरों पर फिर किया हमला। अमेरिका में गहराता शटडाउन संकट, लोगों को बेचना पड़ रहा है घर का सामान । हसन नसरुल्लाह ने इस्राईली मीडिया को खिलौना बना दिया, हिज़्बुल्लाह की स्ट्रैटजी के आगे ज़ायोनी मीडिया फेल । रूस और ईरान के दुश्मन आईएसआईएस को मिटाना ग़लत क़दम होगा : ट्रम्प