Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 64885
Date of publication : 17/12/2014 22:51
Hit : 425

पाकिस्तानी सुन्नी मौलाना

कर्बला में चेहलुम के अवसर पर करोड़ों की भीड़ ने आतंकवादियों के होश उड़ाये।

जमीअते उल्मा-ए-पाकिस्तान के प्रमुख ने करबला में इमाम हुसैन अ. के चेहलुम के अवसर पर मुसलमानों की करोड़ों की संख्या में भागीदारी ने आतंकवादी समूहों के होश उड़ा दिये हैं और उनके हौसले पस्त हो गये हैं।



विलायत पोर्टलः जमीअते उल्मा-ए-पाकिस्तान के प्रमुख ने करबला में इमाम हुसैन अ. के चेहलुम के अवसर पर मुसलमानों की करोड़ों की संख्या में भागीदारी ने आतंकवादी समूहों के होश उड़ा दिये हैं और उनके हौसले पस्त हो गये हैं।
रिपोर्ट के अनुसार जमीअते उलमा-ए-पाकिस्तान के प्रमुख मौलाना डॉ साहबज़ादा अबुल ख़ैर मोहम्मद जुबैर ने इरना के साथ बातचीत में इस साल इमाम हुसैन अ. के चेहलुम के अवसर पर मुसलमानों की दो करोड़ से अधिक भागीदारी को इस्लामी समुदाय की एकता और शक्ति का महान सूचक बताते हुए उसे आतंकवादियों के लिए गम्भीर खतरा बताया याहे।
उन्होंने कहा कि करबला में इमाम हुसैन अ. के आशिक़ों की इतनी बड़ी संख्या की मौजूदगी इस बात को दर्शा रही है कि इस्लामी उम्मत आतंकवादियों की किसी भी साज़िश से भयभीत नहीं होगी।
उन्होंने कहा चूंकि सैयदुश्शोहदा हज़रत इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम, अहलेबैते अतहार (अ) में से है इसलिए इमाम हुसैन अ. का उद्देश्य व लक्ष्य भी पैग़म्बर स.अ की रेसालत की जिम्मेदारियों का सिलसिला था और आपने शांति व दोस्ती और इंसानों के बीच एकता के प्रचार के लिए उपाय अंजाम दिए।
उन्होंने कहा कि इस साल इमाम हुसैन अ. के चेहलुम के अवसर पर करोड़ों ज़ाएरीन की भागीदारी ने आतंकवादी समूहों ख़ास कर आईएसआईएस और उनके समर्थकों को यह संदेश दिया है कि वह जान लें कि मुसलमानों की एकता को पारा नहीं किया जा सकता और इस्लामी समुदाय किसी भी कीमत पर आतंकवादियों के मंसूबों को कामयाब नहीं होने देंगे।


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

हिज़्बुल्लाह से हार के बाद जीत का मुंह देखने को तरस गया इस्राईल : ज़ायोनी मंत्री शौहर क्या करे कि घर जन्नत की मिसाल हो इस्राईल दहशत में, जौलान हाइट्स पर युद्ध छेड़ सकता है हिज़्बुल्लाह अय्याश सऊदी युवराज का दिमाग़ी संतुलन सही नहीं : लिंडसे ग्राहम ईरान प्रतिरोध का केंद्र और फिलिस्तीन का सच्चा समर्थक : सूर उलमा एसोसिएशन डूबते नेतन्याहू को ईरान परमाणु समझौते का सहारा ? सऊदी तानाशाह ने बोली इस्राईल की भाषा, ईरान के मिसाइल और परमाणु कार्यक्रम को रोके विश्व समुदाय सऊदी अरब पर शिकंजा कसा, जर्मनी ने 18 सऊदी लोगों पर प्रतिबंध लगाया अफ़ग़ानिस्तान के अधिकांश भाग पर तालेबान का क़ब्ज़ा, अमेरिका ने हार मानी ख़ाशुक़जी हत्याकांड के केंद्र में आया "अंधेरों का राजकुमार " आले सऊद शांति चाहते हैं तो यमन जवाबी हमले रोकने को तैयार : अल हौसी आयतुल्लाह फ़ाज़िल लंकरानी र.ह. की ज़िंदगी पर एक निगाह इदलिब, दमिश्क़ ने आतंकी संगठनों के खिलाफ सैन्य अभियान शुरू किया सऊदी अरब के साथ अपने संबंधों पर फिर विचार करे अमेरिका : बर्नी सैंडर्स आंग सान सू ची के साथ बराक ओबामा से भी छीना जाए नोबेल शांति पुरस्कार