हिंदुस्तान में सुप्रीम लीडर के प्रतिनिधि का दफ़तर
شنبه - 2019 مارس 23
हिंदुस्तान में सुप्रीम लीडर के प्रतिनिधि का दफ़तर
Languages
Delicious facebook RSS ارسال به دوستان نسخه چاپی  ذخیره خروجی XML خروجی متنی خروجی PDF
کد خبر : 77510
تاریخ انتشار : 24/6/2015 6:39
تعداد بازدید : 95

मस्जिदुल अक़्सा के ख़िलाफ़ इस्राईली षडयंत्र

अंतर्राष्ट्रीय क़ुद्स केन्द्र के प्रमुख ने मस्जिदुल अक़्सा के ख़िलाफ़ इस्राईल के षडयंत्रों से पर्दा उठाया है।


विलायत पोर्टलः अंतर्राष्ट्रीय क़ुद्स केन्द्र के प्रमुख ने मस्जिदुल अक़्सा के ख़िलाफ़ इस्राईल के षडयंत्रों से पर्दा उठाया है। हसन ख़ातिर ने मंगलवार को खबर दी कि मुसलमानों के पहले क़िब्ले यानी मस्जिदुल अक़्सा को ज़ायोनी शासन की तरफ़ से बढ़ते ख़तरों के बावजूद इस शासन के अतिग्रहणकारी कार्यवाहियों पर अरब देशों की प्रतिक्रिया बहुत कमज़ोर है। उन्होंने कहा कि मस्जिदुल अक़्सा के समर्थन में जिस बात की ज़्यादा ज़रूरत है वह ज़ायोनी शासन की तरफ़ से पैदा किए गए ख़तरों पर अरब और इस्लामी देशों की तरफ़ से मुनासिब प्रतिक्रिया का सामने आना है। क़ुद्स अंतर्राष्ट्रीय केन्द्र के प्रमुख हसन ख़ातिर ने कहा कि क़ुद्स की जनता बहुत ही बुरी आर्थिक हालत में ज़िन्दगी गुज़ार रही है और वह, ज़ायोनी शासन की नस्लभेदी व ग़ैर इंसानी चालों को सहन करने पर मजबूर है। इसी बीच फ़िलिस्तीन के मुफ़्ती शैख़ मोहम्मद हुसैन ने ज़ायोनी चरमपंथी गुटों की तरफ़ से मस्जिदुल अक़्सा पर पूरी तरह से क़ब्ज़ा किए जाने से संबंधित अपील के बारे में बा ख़बर किया। उन्होंने कहा कि यह बहुत ख़तरनाक अपील है जो मस्जिदुल अक़्सा और मुसमलानों के ख़िलाफ़ ज़ायोनियों की बुरी नियत का पता देती है। 1948 में क़ब्ज़ा शुदा फ़िलिस्तीनी ज़मीन में मौजूद इस्लामी आंदोलन ने एक बयान में फ़िलिस्तीनियों से ज़ायोनी शासन की साज़िशों से निपटने के लिए बड़ी संख्या में मस्जिदुल अक़्सा में हाज़िर होने की अपील की। ज्ञात रहे कि आए दिन ज़ायोनी, मुसलमानों के पवित्र स्थल मस्जिदुल अक़्सा की तौहीन करते रहते हैं। उल्लेखनीय है कि जबसे ज़ायोनी शासन ने बैतुल मुक़द्दस पर क़ब्ज़ा किया है उस वक़्त से यह शासन मस्जिदुल अक़्सा को गिराने के लिए इस पवित्र स्थल के ढ़ांचे के नीचे और इसके आसपास सुरंगे खोदने के साथ-साथ और कई तरह के दूसरे षडयंत्र करता चला आ रहा है।
................
तेहरान रेडियो


نظر شما



نمایش غیر عمومی
تصویر امنیتی :