Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 78333
Date of publication : 9/7/2015 18:50
Hit : 414

पाकिस्तान में कड़ी सुरक्षा में निकला 21 रमज़ान का जुलूस

हज़रत अली अलैहिस्सलाम की शहादत के ग़मज़दा मौक़े पर पूरे पाकिस्तान में कड़ी सुरक्षा के साथ जूलूस निकाल जा रहे हैं।


विलायत पोर्टलः हज़रत अली अलैहिस्सलाम की शहादत के ग़मज़दा मौक़े पर पूरे पाकिस्तान में कड़ी सुरक्षा के साथ जूलूस निकाल जा रहे हैं। इस्लामाबाद से मिली रिपोर्ट के मुताबिक़ पाकिस्तान की राजधानी के अलावा कराची, लाहौर, पेशावर, कोएटा और दूसरे शहरों में हज़रत अली अलैहिस्सलाम की याद में जुलूस निकाल जा रहे हैं। 21 रमज़ान को निकाले जाने वाले इन जुलूसों में बड़ी तादाद में शिया हिस्सा ले रहे हैं। डान समाचारपत्र ने लिखा है कि पाकिस्तान की सरकार ने ग़मज़दा शियों और जुलूसों की सुरक्षा को बढ़ाने के मक़सद से हज़ारों फ़ौजियों को तैनात किया है। इन जुलूसों की हवाई देख रेख भी की जा रही है। जिन रास्तों से 21 रमज़ान के जुलूस गुज़रने हैं वहां पर सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। सरकार का कहना है कि जुलूस के गुज़रने वाले रास्तों पर पड़ने वाली ऊंची इमारतों पर स्नाइपर्स मौजूद हैं। पेशावर में तीन दिनों के लिए मोटरसाइकल पर डबल सवारी पर रोक लगा दी गई है। समाचार लिखे जाने तक किसी ना ख़ुशगवार हादसे की ख़बर नहीं मिली थी। मालूम रहे कि 21 रमज़ान को हज़रत अली की शहादत के ग़मज़दा मौक़े पर पूरी दुनिया में ग़म की मजलिसें और जुलूसों का इन्तेज़ाम किया जाता है।
................
तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

संयुक्त राष्ट्र के प्रस्ताव का सम्मान करते हैं लेकिन इस्राईल की नकेल कसो : लेबनान दक्षिण कोरिया ने आंग सान सू ची से ग्वांगजू पुरस्कार वापस लेने का फैसला किया । सूडान ने इस्राईल के अरमानों पर पानी फेरा, संबंध सामान्य करने से किया इंकार । हज़रत फ़ातिमा मासूमा स.अ. सऊदी अरब का अमेरिका को कड़ा संदेश, हमारे मामले में मुंह बंद रखे सीनेट । इदलिब की आज़ादी प्राथमिकता, अतिक्रमणकारियों को सीरिया से भागना ही होगा : दमिश्क़ हाउस ऑफ़ लॉर्ड्स की मांग, अमेरिका से राजनैतिक संबद्धता कम करे इंग्लैंड। अवैध राष्ट्र ने लगाई गुहार, लेबनान सेना पर दबाव बनाए अमेरिका । अमेरिकी गठबंधन आतंकी संगठनों की मदद से सीरिया के तेल संपदा को लूटने में व्यस्त । मासूमा ए क़ुम स.अ. की शहादत के शोक में डूबा ईरान, क़ुम समेत देश भर में मातम । अमेरिका ने स्वीकारा, असद को पदमुक्त करना उद्देश्य नहीं । सिर्फ दो साल, और साठ हज़ार लोगों की जान ले चुका है यमन संकट । हमास ने दिया इस्राईल को गहरा झटका, पकडे गए ड्रोन विमानों का क्लोन बनाया । आले सऊद की काली करतूत, क़तर पर हमला कर हड़पने की साज़िश का भंडाफोड़ । रूस मामलों में पोम्पियो की कोई हैसियत नहीं, अमेरिका की विदेश नीति का भार जॉन बोल्टन के कंधों पर : लावरोफ़