Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 88785
Date of publication : 6/12/2015 18:15
Hit : 265

आतंकवाद का अंत:

क्या आईएस के नाम का भूत ग़ाएब होने वाला है?

आतंकवाद कि जिसे सऊदी अरब और उसके घटकों के प्रयासों के परिणाम स्वरूप आज इस्लाम के साथ जोड़ दिया गया है उसका इतिहास बहुत पुराना है और जब से इंसान है तब से आतंकवाद का वुजूद भी पाया जाता है।


विलायत पोर्टलः आतंकवाद कि जिसे सऊदी अरब और उसके घटकों के प्रयासों के परिणाम स्वरूप आज इस्लाम के साथ जोड़ दिया गया है उसका इतिहास बहुत पुराना है और जब से इंसान है तब से आतंकवाद का वुजूद भी पाया जाता है। समाज में डर और भय पैदा करके अपने प्रतिद्वंद्वी को रास्ते से हटाना, इटली के माफ़ियाई मुहल्लों में हर दिन का काम था, फ्रांस और रूस की क्रांतियों के दौरान कुछ गुट खुफिया तौर पर और कुछ गुट खुल्लम खुल्ला आतंकवादी गतिविधियों अंजाम देते थे। दुनिया में कोई देश ऐसा नहीं है कि जिसने आतंकवाद और इससे प्रभावित होने का अनुभव न किया हो। इसलिए आतंकवाद नाम के मौजूद तो एक तरीके के रूप में चुना गया है कि जिसे कट्टरपंथी राजनीतिक गुट कानून तोड़ने वाली पार्टियां और हत्या व नरसंहार का बाजार गर्म करने वाली सरकारें इस्तेमाल करती थीं या आज भी कर रही हैं। एक ऐसा दौर आया कि आतंकवाद ने क्षेत्रीय भूगोल की सीमाओं से बाहर निकलकर अंतर-राष्ट्रीय आतंकवाद के भूगोल की सीमाओं में कदम रखा और वैश्विक आतंकवादी गुट वुजूद में आए। अंतर-राष्ट्रीय स्तर पर गतिविधियों को किसी सरकार या संगठन या सैन्य और जासूसी एजेंसी या सरकार के समर्थन और सपोर्ट की जरूरत होती है। उदाहरण स्वरूप वह देश जिनके हित एक दूसरे से टकराते हैं एक दूसरे के मुक़ाबले में अपने लक्ष्यों को कम खर्च पर हासिल करने की खातिर, आतंकवादी समूहों या आतंकवादी नौकरों से काम लेते हैं। इस तरीक़े को अमल में लाने से हर कार्यवाही की ज़िम्मेदारी आतंकवादी गुटों पर होती है लेकिन कुल मिलाकर इससे, आतंकी गुटों का समर्थन करने वाले देशों का उद्देश्य पूरा होता है। जायोनी हुकूमत दुनिया में एक ऐसी सरकार है जिसने बहुत ज्यादा इस तरीक़े को अपनाया है।


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

अय्याश सऊदी युवराज बिन सलमान ने माँ के बाद अब अपने भाई को बंदी बनाया। क़ासिम सुलेमानी के आदेश पर सीरिया ने इस्राईल पर मिसाइल दाग़े : ज़ायोनी मीडिया यूरोपीय यूनियन के ख़िलाफ़ बश्शार असद का बड़ा क़दम, राजनयिकों का विशेष वीज़ा किया रद्द। अमेरिकी सेना ने माना, इराक युद्ध का एकमात्र विजेता है ईरान । बर्नी सैंडर्स की मांग, सऊदी तानाशाही की नकेल कसे विश्व समुदाय । ईरान विरोधी बैठकों से कुछ हासिल नहीं, यादगारी तस्वीरें लेते रहे नेतन्याहू । हसन नसरुल्लाह का लाइव इंटरव्यू होगा प्रसारित,सऊदी इस्राईली मीडिया की हवा निकली । आले ख़लीफ़ा का यूटर्न , कभी भी दमिश्क़ विरोधी नहीं था बहरैन इदलिब , नुस्राह फ्रंट के ठिकानों पर रूस की भीषण बमबारी । हश्दुश शअबी की कड़ी चेतावनी, आग से न खेले तल अवीव,इस्राईल की ईंट से ईंट बजा देंगे । दमिश्क़ पर फिर हमला, ईरानी हित थे निशाने पर, जौलान हाइट्स पर सीरिया ने की जवाबी कार्रवाई । नहीं सुधर रहा इस्राईल, दमिश्क़ के उपनगरों पर फिर किया हमला। अमेरिका में गहराता शटडाउन संकट, लोगों को बेचना पड़ रहा है घर का सामान । हसन नसरुल्लाह ने इस्राईली मीडिया को खिलौना बना दिया, हिज़्बुल्लाह की स्ट्रैटजी के आगे ज़ायोनी मीडिया फेल । रूस और ईरान के दुश्मन आईएसआईएस को मिटाना ग़लत क़दम होगा : ट्रम्प