Friday - 2018 August 17
Languages
Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 89095
Date of publication : 10/12/2015 20:46
Hit : 151

इराक़ अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं में तुर्की की शिकायत करेगा।

इराकी विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि तुर्की सैनिकों ने, इराक़ को पूर्व सूचना दिए बिना इराक में प्रवेश किया और इराक में तुर्की सैनिकों की मौजूदगी बगदाद की दृष्टि में एक शत्रुतापूर्ण कार्यवाही है।



विलायत पोर्टलः इराक़ी विदेश मंत्री इब्राहीम जाफ़री ने कहा है कि इराक़ से अपने सैनिक न निकालने के कारण बग़दाद अंतर्राष्ट्रीय और क्षेत्रीय संस्थाओं में तुर्की की शिकायत करेगा। इब्राहीम जाफ़री ने आईएस विरोधी तथाकथित गठबंधन में अमेरिकी राष्ट्रपति के विशेष प्रतिनिधि "ब्रिट मिक गोर्की" के साथ बैठक में कहा कि बग़दाद ने इराकी धरती के खिलाफ अंकारा की खुले आक्रामकता के बाद सभी राजनयिक कार्रवाई शुरू कर दी हैं और तुर्की सैनिकों को वापस न बुलाने के मामले में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में इसकी शिकायत की जाएगी। इराकी विदेश मंत्री ने कहा कि बग़दाद ने तुर्की को अपने सैनिक वापस बुलाने का जो समय दिया था वह समाप्त हो चुका है और बग़दाद अपनी संप्रभुता के उल्लंघन को रोकने और अपनी सीमाओं की सुरक्षा के लिए सुरक्षा परिषद, अरब लीग और अन्य अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं से शिकायत करेगा। उन्होंने कहा कि इराकी विदेश मंत्रालय ने सभी कूटनीतिक कार्यवाहियां शुरू कर दी हैं और बग़दाद में तुर्की के राजदूत को भी तलब कर लिया गया है। इराकी परिवहन मंत्री बाक़िर अलज़ुबैदी ने भी इराक में तुर्की सैनिकों की मौजूदगी को इराक की सुरक्षा के लिए खतरा बताया है। बाक़िर अलज़ुबैदी ने कहा बअशीका क्षेत्र में टैंकों, बख्तरबंद वाहनों और अन्य हथियारों के साथ एक हजार से अधिक तुर्क सैनिकों की उपस्थिति, इराक़ की राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए ख़तरा है। उन्होंने चेतावनी दी कि इराक़ के पास एफ़ 16, सोसू और अन्य लड़ाकू विमान हैं और वह हर कब्जे के ठिकानों पर बमबारी करने की क्षमता रखता है। बाक़िर अलज़ुबैदी ने कहा कि आईएस के कुछ आतंकवादी सरग़नाओं के तुर्की के साथ संपर्क रहे हैं और वह तेल निर्यातकों तथा तुर्की की खुफिया एजेंसी से निर्देश प्राप्त करते हैं। उनका कहना था कि जो लोग आईएस को वुजूद में लाए हैं उनका लक्ष्य क्षेत्रीय देशों के टुकड़े करना है। उधर तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैयब ओर्दोगान ने दावा किया है कि तुर्की सेना इराक़ सरकार के अनुरोध पर 2014 से इराक के उत्तर में तैनात है। रोईटर्ज़ की रिपोर्ट के अनुसार रजब तैयब ओर्दोगान ने कहा कि इराकी प्रधानमंत्री हैदर अलएबादी ने अनुरोध किया था कि इराकी सैनिकों को प्रशिक्षित किया जाए और अंकारा भी उनके अनुरोध पर 2014 में बअशीका क्षेत्र में सैन्य शिविर स्थापित किए है। ओर्दोगान ने दावा किया कि इराकी प्रधानमंत्री ने क्षेत्र की स्थिति के आधार पर आज तक इस संबंध में कुछ नहीं कहा। यह ऐसी स्थिति में है कि इराकी विदेश मंत्रालय ने तुर्की के राजदूत को तलब करके सैकड़ों तुर्क सैनिकों की तत्काल वापसी की मांग की है कि जिन्होंने हाल ही में इराक के उत्तर में विशेष रूप से मूसेल शहर के पास (जहां आईएस का कंट्रोल है) प्रवेश किया हैं। इराकी विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि तुर्की सैनिकों ने, इराक़ को पूर्व सूचना दिए बिना इराक में प्रवेश किया और इराक में तुर्की सैनिकों की मौजूदगी बगदाद की दृष्टि में एक शत्रुतापूर्ण कार्यवाही है।


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :