Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 96912
Date of publication : 27/3/2016 18:19
Hit : 222

यमन में सऊदी अरब का मुंह काला हो गया।

यमन पर एक साल से लगातार हमले करने के बाद भी सऊदी अरब अपना एक भी मक़सद पूरा नहीं कर सका है।यमन के ख़िलाफ़ छेड़ी गई सऊदी अरब की लड़ाई की अगर उपलब्धि खोजी जाए तो एक भी उपलब्धि खोज पाना बहुत मुश्किल है।सऊदी अरब का सबसे बड़ा मक़सद अब्दुर्रब्बोह मंसूर हादी को सत्ता में वापस लाना था जबकि वह सत्ता में वापस लाना तो दूर की बात है यमन वापस नहीं जा पा रहे हैं।

विलायत पोर्टलः यमन में सेना और स्वयंसेवी बलों ने सऊदी अरब के किराए के सैनिकों पर मिसाइल हमले कर दिए जिनमें कई सैनिक मारे गए। यह हमले मारिब और तइज़्ज़ प्रांतों में किए गए। मारिब के कूफ़ल और जदआन नाम के इलाक़ो में सऊदी अरब के किराए के सैनिक आगे बढ़ने की कोशिश कर रहे थे कि यमनी सेना और स्वयंसेवी बलों ने उन पर हमला कर दिया। इसी तरह तइज़्ज़ प्रांत के ज़बाब इलाक़े में भी मिसाइल हमला किया गया। इसी बीच समाचार पत्र गार्डियन ने एक रिपोर्ट में लिखा है कि यमन पर एक साल से लगातार हमले करने के बाद भी सऊदी अरब अपना एक भी मक़सद पूरा नहीं कर सका है। गार्डियन ने अपनी रिपोर्ट में लिखा है कि यमन के ख़िलाफ़ छेड़ी गई सऊदी अरब की लड़ाई की अगर उपलब्धि खोजी जाए तो एक भी उपलब्धि खोज पाना बहुत मुश्किल है। समाचार पत्र ने लिखा है कि सऊदी अरब का सबसे बड़ा मक़सद अब्दुर्रब्बोह मंसूर हादी को सत्ता में वापस लाना था जबकि वह सत्ता में वापस लाना तो दूर की बात है यमन वापस नहीं जा पा रहे हैं। मंसूर हादी यमन के अदन इलाक़े में गए थे लेकिन आतंकी हमलों के डर से उन्हें वहां से भागना पड़ा और इस समय वह सऊदी अरब की राजधानी रियाज़ में हैं। सऊदी अरब और उसके गठबंधन का यह भी मक़सद था कि यमन में ईरान के प्रभाव को समाप्त कर दिया जाए लेकिन साफ़ है कि यह मक़सद भी पूरा नहीं हुआ है। तीसरा मक़सद आतंकवाद का सफ़ाया करना बताया गया था मगर सऊदी अरब को इसमें भी कोई कामयाबी नहीं मिली है। समाचारपत्र के अनुसार यमन इस समय सूखे की चपेट में है जबकि सऊदी अरब ने बमबारी करके इस देश के स्कूलों, अस्पतालों, खेल के मैदानों, बाज़ारों सब को तबाह कर दिया है। उधर सऊदी अरब ने यमन के लिए मदद एकत्रित करने की कोशिश की लेकिन संस्था को इसमें कोई ख़ास कामयाबी नहीं मिली है। समाचार पत्र के अनुसार सऊदी अरब ने अब यमन के अंसारुल्लाह आंदोलन से बातचीत शुरू की लेकिन रियाज़ सरकार ने बातचीत का फ़ैसला तब किया जब उसे यक़ीन हो गया कि यमन जंग से सऊदी अरब की हालत लगातार ख़राब होती जा रही है और उसे इस लड़ाई में कुछ भी हासिल होने वाला नहीं है।
..................
तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

ईरानी हैकर्स ने अमेरिकी अधिकारियों के ईमेल हैक किए ! ईरान, रूस और चीन से युद्ध के लिए तैयार रहे ब्रिटेन : जनरल कार्टर हमास की ज़ायोनी अतिक्रमणकारियों को चेतावनी, हमारे देश से से निकल जाओ । पाकिस्तान में इतिहास का सबसे बड़ा निवेश करने वाला है सऊदी अरब नेतन्याहू की धमकी, अस्तित्व की जंग लड़ रहा इस्राईल अपनी रक्षा के लिए कुछ भी करेगा । वेनेज़ुएला के राष्ट्रपति का आरोप, उनकी हत्या की योजना बना रहा है अमेरिका । सऊदी अरब सहयोगी , लेकिन मोहम्मद बिन सलमान की लगाम कसना ज़रूरी : अमेरिकन सीनेटर्स झूट की फ़ैक्ट्री, वॉइस ऑफ अमेरिका की उर्दू और पश्तो सर्विस पर पाकिस्तान ने लगाई पाबंदी ईरान के नाम पर सीरिया को हमलों का निशाना बनाने की आज्ञा नहीं देंगे : रूस अमेरिकी हथियार भंडार के साथ बू कमाल में सामूहिक क़ब्र से 900 शव बरामद । विख्यात यहूदी अभिनेत्री नताली पोर्टमैन ने की अमेरिका यमन युद्ध के नाम पर सऊदी अरब से वसूली को तैयार सऊदी अरब का युवराज मोहम्मद बिन सलमान है जमाल ख़ाशुक़जी का हत्यारा : निक्की हैली अमेरिका में पढ़ने वाले ईरानी अधिकारियों के बच्चों को निकालेगा वाशिंगटन दमिश्क़ का ऐलान,अपना उपग्रह लांच करने के लिए तैयार है सीरिया ।