हिंदुस्तान में सुप्रीम लीडर के प्रतिनिधि का दफ़तर
سه شنبه - 2019 مارس 19
हिंदुस्तान में सुप्रीम लीडर के प्रतिनिधि का दफ़तर
Languages
Delicious facebook RSS ارسال به دوستان نسخه چاپی  ذخیره خروجی XML خروجی متنی خروجی PDF
کد خبر : 98774
تاریخ انتشار : 26/4/2016 16:41
تعداد بازدید : 14

सऊदियों ने कहा कि आईएसआईएल को हमने जन्म दिया है।

ब्रिटेन से प्रकाशित होने वाले समाचार पत्र फाइनेन्शियल टाइम्ज़ ने लिखा है कि सीआईए की हरी झंडी मिलने के सऊदी अरब ने आईएसआईएल को बनाया है।


विलायत पोर्टलः ब्रिटेन से प्रकाशित होने वाले समाचार पत्र फाइनेन्शियल टाइम्ज़ ने लिखा है कि सीआईए की हरी झंडी मिलने के सऊदी अरब ने आईएसआईएल को बनाया है। फाइनेन्शियल टाइम्ज़ की इस रिपोर्ट पर प्रतिक्रियाओं का क्रम जारी है। फाइनेन्शियल टाइम्ज़ ने लिखा है कि सऊदियों ने अमेरिकी विदेशमंत्री जान केरी से कहा है कि आईएसआईएल को उन्होंने पाला है और सीआईए भी इससे अवगत है। फाइनेन्शियल टाइम्ज़ की इस रिपोर्ट के बाद अमेरिका के विभिन्न संचार माध्यमों ने भी प्रतिक्रिया दिखाई है। सऊदियों ने इसी तरह जान केरी से ज़ोर देकर कहा है कि अमेरिका द्वारा मध्यपूर्व में हस्तक्षेप के कारण रियाज़ ने सबसे पहले अलक़ायदा और उसके बाद आईएसआईएल की बुनियाद रखी। सऊदियों के दावे के अनुसार वर्ष 2003 में इराक़ पर अमेरिका के हमले ने समीकरण को ईरान के हित में परिवर्तित कर दिया और उसके मुक़ाबले के लिए कार्यवाही की जानी चाहिए थी। अमेरिका के पूर्व राजनेता, कांग्रेस के सदस्य और लेखक रोनल्ड अर्नेस्ट पॉल ने रॉन पॉल संस्था के प्रबंधक निदेशक डानियल मेक McAdams से बातचीत में कहा कि आईएसआईएल को बनाने में सऊदियों की स्वीकारोक्ति कोई आश्चर्य की बात नहीं है। अर्नेस्ट पॉल के कथनानुसार अमेरिका की ख़ूफ़िया संस्था सीआईए की जानकारी के बिना सऊदी अरब आईएसआईएल को नहीं बना सकता था। इस अमेरिकी राजनेता और लेखक ने कहा कि सीरिया संकट शुरू होने के साथ सीआईए और अमेरिकी रक्षामंत्रालय पेंटागोन ने सीरिया के राष्ट्रपति को सत्ता से हटाने की कोशिश शुरू कर दी और इसके लिए उन्हें आईएसआईएल की आवश्यकता थी। रान पाल के प्रबंधक निदेशक डेनियल मेक का भी मानना है कि आईएसआईएल को सऊदियों ने बनाया और उसकी आर्थिक आवश्यकताओं की पूर्ति की लेकिन यह अमेरिका था जिसने आवश्यक स्थिति उपलब्ध की जिसकी वजह से अलकायदा और आईएसआईएल अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सामने आए। डेनियल मेक के अनुसार इसका संबंध मध्यपूर्व में अमेरिका की हस्तक्षेपूर्ण नीति से है और तालेबान की नई पीढ़ी जो सऊदी अरब के पैसे से पली-बढ़ी हैं, आईएसआईएल के भेस में रणक्षेत्र में आ गई है।
...................
तेहरान रेडियो


نظر شما



نمایش غیر عمومی
تصویر امنیتی :