Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 190975
Date of publication : 18/12/2017 18:34
Hit : 502

अवैध राष्ट्र को सुख और शांति नही मिलने वाली ।

1948 के बाद से फिलिस्तीनी बहुत जागरूक और मज़बूत हो गए हैं और उनकी आबादी में भी उल्लेखनीय बढ़ोत्तरी हुई है, इस युग मे उनके बीच महान हस्तियों ने भी जन्म लिया है, अगर उस समय यह लोग इतने कमज़ोर थे कि उन्हें उन्ही के घरों और और देश से बाहर निकाल दिया गया तो आज यह इतने निडर और मज़बूत हो गए हैं कि इन्होने लाखों हथियारबंद ज़ायोनियों से उनका चैन और सुकून छीन लिया है, ज़ायोनी अपने महलों , घरों , शहरों तथा अन्य स्थानों पर भी शांति और सुरक्षा के साथ नही रह सकते ।


विलायत पोर्टल :
साम्राज्यवादी शक्तियां अवैध ज़ायोनी राष्ट्र की सुख और शांति को सुनिश्चित करना चाहती हैं लेकिन यह काम कभी नही हो सकता, भरोसा रखिये यह कभी नही होगा ।
ज़ायोनी लॉबी ने पहले ब्रिटेन फिर अमेरिका और अन्य देशों की सहायता तथा छल कपट और आतंक के सहारे फिलिस्तीन पर कब्ज़ा कर उन्हें ड़रा धमका कर उनके घरों से निकाल कर यहाँ अपनी सत्ता स्थापित कर ली लेकिन 40-50 वर्ष बीत जाने के बाद भी वह बुनियादी मुद्दा हल नही कर सके हैं और वह है सुरक्षा और शांति ।
आज भी ज़ायोनी सत्ता के अधीनस्थ क्षेत्रों में सोने वाला ज़ायोनी नागरिक चैन से नही सो सकता क्योंकि यह छीने हुए मकान हैं और यह जिनका माल है वह खामोश नही बैठेंगे, अतः अवैध ज़ायोनी नागरिकों को चैन और सुकून तो है ही नही और यह उन्हें कभी मिलेगा भी नही और यही अटल सच्चाई है ।
उनके पास धन संपदा , नैनो टेक्नोलॉजी , इम्पीरियालिज़्म , सुपर पावर्स का सपोर्ट , आधुनिक हथियारों का भंडार , और आतंक फ़ैलाने के सभी साधन उपलब्ध हैं फिर भी यह लोग इतने उलझे हुए हैं कि फिलिस्तीनी बच्चों का स्कूल, कॉलेज तक पीछा करते हैं, अल्लाह ने इन बुज़दिलों और सुखी जीवन जीने के अभिलाषी लोगों का सारा सुकून और चैन छीन लिया है वह इस लिए क्योंकि फिलिस्तीन , वहां की जनता वहां के जवान जागरूक हैं ।
 दुश्मनों ने फिलिस्तीन को विश्व मानचित्र तथा लोगों के ज़हन से मिटाने का बहुत प्रयत्न किया, जब इस में नाकाम रहे तो उन्होंने फिलिस्तीनी लोगों को अन्य समाज में शामिल कर उनकी पहचान मिटाने का प्रयास किया ताकि फिलिस्तीन और फिलिस्तीनी जैसी कोई चीज़ इस दुनिया में बाक़ी न रहे लेकिन जो कुछ हुआ वह उनकी प्लानिंग और योजना के बिल्कुल विपरीत था । 1948 के बाद से फिलिस्तीनी बहुत जागरूक और मज़बूत हो गए हैं और उनकी आबादी में भी उल्लेखनीय बढ़ोत्तरी हुई है, इस युग मे उनके बीच महान हस्तियों ने भी जन्म लिया है, अगर उस समय यह लोग इतने कमज़ोर थे कि उन्हें उन्ही के घरों और और देश से बाहर निकाल दिया गया तो आज यह इतने निडर और मज़बूत हो गए हैं कि इन्होने लाखों हथियारबंद ज़ायोनियों से उनका चैन और सुकून छीन लिया है, ज़ायोनी अपने महलों , घरों , शहरों तथा अन्य स्थानों पर भी शांति और सुरक्षा के साथ नही रह सकते । ज़ायोनियों के पास सब कुछ है, लेकिन जीवन की सबसे महत्वपूर्ण वस्तु अर्थात शांति एवं सुरक्षा नही है वह सुख और चैन से नही रह सकते ।
..............................
 


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

अफ़ग़ानिस्तान में शांति स्थापना के लिए ईरान का किरदार बहुत महत्वपूर्ण । वालेदैन के हक़ में दुआ हिज़्बुल्लाह के खिलाफ युद्ध की आग भड़काने पर तुला इस्राईल, मोसाद और ज़ायोनी सेना आमने सामने इराक की दो टूक, किसी भी देश के ख़िलाफ़ देश की धरती का प्रयोग नहीं होने देंगे फ़्रांस के दो लाख यहूदी नागरिकों को स्वीकार करेगा अवैध राष्ट्र इस्राईल इस्राईल का चप्पा चप्पा हमारी की मिसाइलों के निशाने पर : हिज़्बुल्लाह जौलान हाइट्स से लेकर अल जलील तक इस्राईल का काल बन गई है नौजबा मूवमेंट । हम न होते तो फ़ारसी बोलते आले सऊद, अमेरिका के बिना सऊदी अरब कुछ नहीं : लिंडसे ग्राहम आले सऊद की बेशर्मी, लापता हाजी सऊदी जेलों में मौजूद ट्रम्प पर मंडला रहा है महाभियोग और जेल जाने का ख़तरा । जॉर्डन के बाद संयुक्त अरब अमीरात ने दमिश्क़ से राजनयिक संबंध बहाल करने की इच्छा जताई क़ुर्आन की तिलावत की फ़ज़ीलत और उसका सवाब ट्रम्प को फ्रांस की नसीहत, हमारे आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप न करे अमेरिका । तुर्की अरब जगत के लिए सबसे बड़ा ख़तरा : अब्दुल ख़ालिक़ अब्दुल्लाह आतंकवाद से संघर्ष का दावा करने वाला अमेरिका शरणार्थियों पर हमले बंद करे : मलाला युसुफ़ज़ई