Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 191060
Date of publication : 21/12/2017 7:2
Hit : 572

प्रतिरोध ही है सफलता का एकमात्र रास्ता : आयतुल्लाह ख़ामेनई

अगर यह आंदोलन अल्लाह पर ईमान और भरोसे के साथ होगा तो अवश्य आगे बढ़ेगा , मैं इसी लिए कह रहा हूँ और बार बार कहता हूँ कि अगर आंदोलन और प्रतिरोध के साथ साथ अल्लाह पर ईमान और भरोसा होगा तो सफलता ज़रूर मिलेगी । इस भरोसे और आस्था का मतलब आधा अधूरा ईमान नहीं है बल्कि वह पूरा ईमान है जो इस्लाम चाहता है, अगर ऐसा हुआ तो तभी अल्लाह का वह वादा पूरा होगा कि प्रकृति और इतिहास के सारे क़ानून तुम्हारे पीछे पीछे चलेंगे


विलायत पोर्टल :  हिज़्बुल्लाह और अवैध ज़ायोनी राष्ट्र के बीच चलने वाले 33 दिवसीय युद्ध में हिज़्बुल्लाह की कामयाबी और अवैध राष्ट्र की हार वास्तव में एक बहुत बड़ी घटना है जिस में सीख देने वाली बहुत से बातें हैं ।
दुश्मन चाहे न चाहे लेकिन लोग इस युद्ध से बहुत कुछ सीखेंगे , इराक़ियों , फिलिस्तीनियों और अन्य सब लोगों ने देखा कि कामयाबी पाने का रास्ता अपने मिशन पर डटे रहना है , दूसरा और कोई रास्ता नहीं है , कामयाबी मिलेगी चाहे प्रतिरोध करने वाला दल बहुत छोटा सा ही क्यों न हो और उसके मुक़ाबले पर दुनिया की कोई बड़ी फ़ौज ही क्यों न हो जिसकी सहायता अमेरिका या कोई और भी कर रहा हो, यह खुदा का बनाया हुआ अटल क़ानून है जो भी इस पर अमल करेगा कामयाब हो जायेगा । प्रतिरोध कामयाबी दिलाने वाला हथियार है, जो लोग इस रास्ते पर चलते हैं उन्हें इस रास्ते में आने वाले खतरों से नहीं डरना चाहिए , अगर वह डर गये तो उनका प्रतिरोध और आंदोलन कमज़ोर पड़ जायेगा और कामयाबी नहीं मिल पायेगी ।
बहुत से आंदोलन इस लिए इतिहास के काले पन्नों में खो गये क्योंकि वह रास्ते के खतरों से डर गये थे, जो समाज प्रतिरोध दिखाना चाहते हैं अगर वह दुनिया के सुख और सुविधाओं को भूलाकर आगे बढ़ते रहें तो इस बात में कोई संदेह नहीं है कि आंदोलन और प्रतिरोध अवश्य सफल होगा, और अगर यह आंदोलन अल्लाह पर ईमान और भरोसे के साथ होगा तो अवश्य आगे बढ़ेगा , मैं इसी लिए कह रहा हूँ और बार बार कहता हूँ कि अगर आंदोलन और प्रतिरोध के साथ साथ अल्लाह पर ईमान और भरोसा होगा तो सफलता ज़रूर मिलेगी ।
इस भरोसे और आस्था का मतलब आधा अधूरा ईमान नहीं है बल्कि वह पूरा ईमान है जो इस्लाम चाहता है, अगर ऐसा हुआ तो तभी अल्लाह का वह वादा पूरा होगा कि प्रकृति और इतिहास के सारे क़ानून तुम्हारे पीछे पीछे चलेंगे,
مَنْ کانَ يُريدُ الْعاجِلَةَ عَجَّلْنا لَهُ فيها ما نَشاءُ لِمَنْ نُريدُ
सूरए इस्रा , आयत 18
जो भी दुनिया का चाहने वाला है हम उसके लिए जल्दी ही जो चाहते हैं दे देते हैं.
क़ुर्आन की यह आयत उन लोगों के बारे में हैं जो दुनिया में डूबे हुए हैं लेकिन चूंकि उनके पास हिम्मत और इरादा है तो खुदा उन्हें वह सब दे देता है जो वह मांगते हैं और जो लोग दीन को पाना चाहते हैं उनके साथ भी वैसा ही होता है ।
كُلًّا نُمِدُّ هَٰؤُلَاءِ وَهَٰؤُلَاءِ مِنْ عَطَاءِ رَبِّكَ
सूरए इस्रा, आयत 20
हम आपके पालने वाले की मदद से इनकी और उनकी दोनों की मदद करते हैं .
क्योंकि यही अल्लाह का क़ानून है ।
........................


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

अफ़ग़ानिस्तान में शांति स्थापना के लिए ईरान का किरदार बहुत महत्वपूर्ण । वालेदैन के हक़ में दुआ हिज़्बुल्लाह के खिलाफ युद्ध की आग भड़काने पर तुला इस्राईल, मोसाद और ज़ायोनी सेना आमने सामने इराक की दो टूक, किसी भी देश के ख़िलाफ़ देश की धरती का प्रयोग नहीं होने देंगे फ़्रांस के दो लाख यहूदी नागरिकों को स्वीकार करेगा अवैध राष्ट्र इस्राईल इस्राईल का चप्पा चप्पा हमारी की मिसाइलों के निशाने पर : हिज़्बुल्लाह जौलान हाइट्स से लेकर अल जलील तक इस्राईल का काल बन गई है नौजबा मूवमेंट । हम न होते तो फ़ारसी बोलते आले सऊद, अमेरिका के बिना सऊदी अरब कुछ नहीं : लिंडसे ग्राहम आले सऊद की बेशर्मी, लापता हाजी सऊदी जेलों में मौजूद ट्रम्प पर मंडला रहा है महाभियोग और जेल जाने का ख़तरा । जॉर्डन के बाद संयुक्त अरब अमीरात ने दमिश्क़ से राजनयिक संबंध बहाल करने की इच्छा जताई क़ुर्आन की तिलावत की फ़ज़ीलत और उसका सवाब ट्रम्प को फ्रांस की नसीहत, हमारे आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप न करे अमेरिका । तुर्की अरब जगत के लिए सबसे बड़ा ख़तरा : अब्दुल ख़ालिक़ अब्दुल्लाह आतंकवाद से संघर्ष का दावा करने वाला अमेरिका शरणार्थियों पर हमले बंद करे : मलाला युसुफ़ज़ई