Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 191241
Date of publication : 31/12/2017 6:34
Hit : 2189

आयतुल्लाह ख़ामेनई दुनिया के श्रेष्ठ राजनेताओं की निगाह में

रूस वापसी के बाद वहां की प्रेस कांफ़्रेंस में जब रिपोर्टर ने आयतुल्लाह ख़ामनेई से मुलाक़ात को लेकर सवाल किया तो पुतिन का कहना था कि मैं ने हज़रत मसीह (ईसा अ.स.) को नहीं देखा लेकिन उनकी तारीफ़ और विशेषताओं को इंजील में पढ़ा है जो मैंने ईरान में आयतुल्लाह ख़ामेनई के वजूद और उनके नेतृत्व में देखा है।

विलायत पोर्टल :  पुतिन: कुछ साल पहले रूस के राष्ट्रपति पुतिन ईरानी इंक़ेलाब की कामयाबी के बाद पहली बार ईरान की यात्रा पर आए, पुतिन एक बड़े राजनेता और अपनी कूटनीति के बारे में जाने जाते हैं, इन सबके बावजूद ईरान यात्रा से पहले कई बार पूछा कि क्या मेरी ईरान के सुप्रीम लीडर आयतुल्लाह ख़ामनेई से मुलाक़ात हो पायेगी? वह ईरान आये और आयतुल्लाह ख़ामनेई से मुलाक़ात भी हुई, इस मुलाक़ात में ईरानी सुप्रीम लीडर आयतुल्लाह ख़ामेनई ने रूस के टूटने से पहले और बाद के इतिहास की ओर इशारा किया और यह सारी बातें रूस के राष्ट्रपति के लिए नई थीं, मुलाक़ात के बाद राजनयिक अधिकारियों के अनुसार पुतिन का बर्ताव काफ़ी बदल गया था, रूसी विदेश मंत्री साथ में होने के बावजूद उन्होंने ख़ुद ईरानी विदेश मंत्री को रूस आने का निमंत्रण दिया ताकि कुछ राजनीतिक मुद्दों पर बातें कर सकें।
रूस वापसी के बाद वहां की प्रेस कांफ़्रेंस में जब रिपोर्टर ने आयतुल्लाह ख़ामनेई से मुलाक़ात को लेकर सवाल किया तो पुतिन का कहना था कि मैं ने हज़रत मसीह (ईसा अ.स.) को नहीं देखा लेकिन उनकी तारीफ़ और विशेषताओं को इंजील में पढ़ा है जो मैंने ईरान में आयतुल्लाह ख़ामेनई के वजूद और उनके नेतृत्व में देखा है।
कोफ़ी अन्नान: जिस समय ईरान यात्रा पर आये संयुक्त राष्ट्र के महासचिव थे, तेहरान से वापसी पर हवाई अड्डे पर रिपोर्टर के सवाल के जवाब में कहा कि मैंने जवानी में काफ़ी बड़ी शख़्सियतों के बारे में पढ़ा है, हमेशा मेरे दिल में सवाल उठता था कि अगर मैं कभी ऐसी प्रतिभाशाली शख़्सियत के सामने खड़ा हुआ तो मेरी क्या प्रतिक्रिया होगी, फिर आपने कहा कि मुझे जिन लोगों ने संयुक्त राष्ट्र तक पहुंचाया विश्व के नामचीन और प्रसिध्द लोग थे, मैं उनका बहुत सम्मान करता हूं, जैक शिराक जैसे लोग थे जिनसे मैं बहुत प्रभावित था क्योंकि जब यह बात करते थे तो बिना रुके दो टूक बात करते थे, इसी तरह गोर्बाचोफ़ और हेलमुट कोह्ल भी थे जिनसे मैं बहुत प्रभावित भी था और प्रेरित भी, यह सब ऐसे लोग थे जो पूरी निडरता के साथ किसी भी विषय पर दो टूक बोला करते थे। लेकिन जब मैं आयतुल्लाह ख़ामेनई से मिला तो मुझे लगा कि आज तक मैंने इनके जैसा किसी को नहीं देखा, आपके आध्यात्मिक व्यक्तित्व ने मुझे ऐसा प्रभावित किया कि मैं ख़ुद अपने आप से कहने लगा कि तुम संयुक्त राष्ट्र के इस उच्च पद पर क्या कर रहे हो तुम्हारे पास तो थोडा सा भी आध्यात्मिक व्यक्तित्व नहीं है, मैं आयतुल्लाह ख़ामेनई से इतना अधिक प्रभावित हुआ कि उनको देखते ही पहले वालों का प्रभाव ख़त्म हो गया, मैंने दुनिया में आध्यात्मिक व्यक्तित्व वाले लोगों को बहुत देखा लेकिन उनमें से किसी में भी राजनीतिक सूझ बूझ नहीं देखी, आयतुल्लाह ख़ामेनई को देखने के बाद मेरे दिमाग़ से पहले वालों के लिए वह जगह नहीं रही, मुझे नहीं लगता कि मैं संयुक्त राष्ट्र जाने के बाद भी उनको भूल पाऊंगा।
हसन नसरुल्लाह: हिज़्बुल्लाह के महासचिव सैय्यद हसन नसरुल्लाह का आयतुल्लाह ख़ामेनई के बारे में कहना है कि हमारे बीच एक बहुत महान हस्ती मौजूद है जिनकी विशेषताओं के बारे में लोगों को बहुत कम जानकारी है, हमें पता है कि इनकी शख़्सियत पूरी दुनिया यहां तक कि ख़ुद ईरान में बहुत मज़लूम है, आप की शख़्सियत ऐसी है कि जिन पर दुश्मन चारों ओर से हमला कर रहा है और जो अपने हैं उनको जिस तरह उनकी पैरवी करना चाहिए नहीं कर रहे हैं।
कोंडोलीज़ा राइस: अमेरिका की पूर्व विदेश मंत्री और जॉर्ज बुश की विशेष सलाहकार का कहना है कि ईरान के सुप्रीम लीडर आयतुल्लाह ख़ामेनई के अंदर वह ताक़त है कि जिस से वह उन सारी चालों और नक़्शों को जिसके बनाने में दुनिया के बेहतरीन दिमाग़, महंगा बजट और लंबा समय लगा हो जिसे फैलाने में दुनिया के माहिर एंकर लगे हों उसे अपने एक घंटे के भाषण मे नाकाम कर सकते हैं।
जेवियर पेरेज़: यह जिस समय सद्दाम की ओर से थोपी हुई जंग में ईरान व्यस्त था तब ईरान आये थे और उस समय आयतुल्लाह ख़ामेनई ईरान के राष्ट्रपति थे, जेवियर ने आपसे मुलाक़ात करने के बाद लोगों से पूछा कि तुम्हारे राष्ट्रपति ने किस राजनीति विज्ञान युनिवर्सिटि से ग्रेजुएट किया है, मैंने राजनीति विज्ञान में पीएचडी की है और 30 साल से राजनीतिक गतिविधियां अंजाम दे रहा हूं और पिछले कई साल से संयुक्त राष्ट्र का महासचिव हूं बहुत सी राजनीतिक हस्तियों और अनेक देशों के राष्ट्रपति और प्रधानमंत्रियों से मिल चुका हूं उनसे अनेक मुद्दों पर बात कर चुका हूं लेकिन अभी तक मैंने आयतुल्लाह ख़ामेनई जैसा राजनीतिज्ञ और बुध्दिमान नहीं देखा।
.......................


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

ईरान पर आतंकी हमला, बिन सलमान ने दिया पाकिस्तान को 20 अरब डॉलर का इनाम : डी मेडी टेलीग्राफ ज़रूरत पड़ी तो अमेरिका को हमलों का निशाना बनाने को तैयार : रूस हिज़्बुल्लाह ने सेना और देशवासियों के साथ मिलकर लेबनान को सीरिया जैसी दुर्दशा से बचा लिया । पुतिन की नसीहत , विनाशकारी सियासत से बाज़ आए अमेरिका क़तर का आले सऊद पर हमला, हज को राजनैतिक हथियार के रूप में प्रयोग कर रहा है सऊदी अरब। सऊदी युवराज की भारत यात्रा के विरोध में हुए विशाल विरोध प्रदर्शन । वेनेज़ुएला संकट, अमेरिकी हस्तक्षेप की आशंका , सेना हाई अलर्ट । दमिश्क़ कुर्दों का समर्थन करने के लिए तैयार । इंसान मौत के समय किन किन चीज़ों को देखता है? हिटलर की भांति विरोधी विचारधारा को कुचल रहे हैं ट्रम्प । ईरान, आत्मघाती हमलावर और आतंकी टीम में शामिल दो सदस्य पाकिस्तानी : सरदार पाकपूर सीरिया अवैध राष्ट्र इस्राईल निर्मित हथियारों की बड़ी खेप बरामद । ईरान को CPEC में शामिल कर सऊदी अरब और अमेरिका को नाराज़ नहीं कर सकता पाकिस्तान। भारत पहुँच रहा है वर्तमान का यज़ीद मोहम्मद बिन सलमान, कई समझौतों पर होंगे हस्ताक्षर । ईरान के कड़े तेवर , वहाबी आतंकवाद का गॉडफादर है सऊदी अरब