Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 191845
Date of publication : 31/1/2018 5:18
Hit : 422

आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए गए मुक़्तदा सद्र ।

आयतुल्लाह सीस्तानी इराक की राजनैतिक स्थितियों के लिकर निष्पक्ष रहते हुए इराक की अखंडता और एकता पर ज़ोर देते रहे हैं तथा राजनैतिक मुद्दों को लेकर किसी भी दल से कोई मुलाक़ात नहीं करते ।


विलायत पोर्टल :  प्राप्त जानकारी के अनुसार इराक में चुनाव की गहमागहमी और गतिरोध के बीच सद्र मूवमेंट के नेता मुक़्तदा सद्र वरिष्ठ शिया धर्मगुरु आयतुल्लाह सीस्तानी से भेंट के लिए नजफ़े अशरफ गए हैं । सूत्रों के अनुसार मुक़्तदा सद्र ने नजफ़े अशरफ में आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात की ताकि उन से कुछ मुद्दों पर बातचीत कर सके । हालाँकि आयतुल्लाह सीस्तानी के दफ्तर की ओर से अभी तक इस मुलाक़ात को लेकर कुछ नहीं कहा गया है 'आयतुल्लाह सीस्तानी इराक की राजनैतिक स्थितियों के लिकर निष्पक्ष रहते हुए इराक की अखंडता और एकता पर ज़ोर देते रहे हैं तथा राजनैतिक मुद्दों को लेकर किसी भी दल से कोई मुलाक़ात नहीं करते । इससे पहले भी आप ने लोगों को चुनाव में भाग लेने की ताकीद करते हुए किसी दल विशेष का समर्थन न करते हुए स्पष्ट कहा था कि वह अच्छे और ईमानदार उम्मीदवार को देखकर मतदान करें । सूमरिया न्यूज़ के अनुसार इस से पहले मुक़्तदा सद्र ने अंतिम बार 2016 में आयतुल्लाह सीस्तानी से भेंट की थी ।
 ..................


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

अफ़ग़ानिस्तान में शांति स्थापना के लिए ईरान का किरदार बहुत महत्वपूर्ण । वालेदैन के हक़ में दुआ हिज़्बुल्लाह के खिलाफ युद्ध की आग भड़काने पर तुला इस्राईल, मोसाद और ज़ायोनी सेना आमने सामने इराक की दो टूक, किसी भी देश के ख़िलाफ़ देश की धरती का प्रयोग नहीं होने देंगे फ़्रांस के दो लाख यहूदी नागरिकों को स्वीकार करेगा अवैध राष्ट्र इस्राईल इस्राईल का चप्पा चप्पा हमारी की मिसाइलों के निशाने पर : हिज़्बुल्लाह जौलान हाइट्स से लेकर अल जलील तक इस्राईल का काल बन गई है नौजबा मूवमेंट । हम न होते तो फ़ारसी बोलते आले सऊद, अमेरिका के बिना सऊदी अरब कुछ नहीं : लिंडसे ग्राहम आले सऊद की बेशर्मी, लापता हाजी सऊदी जेलों में मौजूद ट्रम्प पर मंडला रहा है महाभियोग और जेल जाने का ख़तरा । जॉर्डन के बाद संयुक्त अरब अमीरात ने दमिश्क़ से राजनयिक संबंध बहाल करने की इच्छा जताई क़ुर्आन की तिलावत की फ़ज़ीलत और उसका सवाब ट्रम्प को फ्रांस की नसीहत, हमारे आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप न करे अमेरिका । तुर्की अरब जगत के लिए सबसे बड़ा ख़तरा : अब्दुल ख़ालिक़ अब्दुल्लाह आतंकवाद से संघर्ष का दावा करने वाला अमेरिका शरणार्थियों पर हमले बंद करे : मलाला युसुफ़ज़ई