Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 192549
Date of publication : 11/3/2018 17:57
Hit : 776

ईरान के खिलाफ एकजुट हुए आले सऊद और इस्राईल ।

8 मार्च को ज़ायोनी समाचार पत्र ने भी कहा था कि फिलिस्तीन संकट के हल और ईरान के खतरे से निपटने के लिए सऊदी अरब और इस्राईल के बीच सहमति बन चुकी हैं ।

विलायत पोर्टल :  प्राप्त जानकारी के अनुसार ईरान दुश्मनी और ज़ायोनी लॉबी की ग़ुलामी में आले सऊद ने सारी सीमाओं की लांघते हुए ज़ायोनी राष्ट्र से सीधी वार्ता शुरू कर दी है । फिलिस्तीनी अधिकारियों के अनुसार यह पहला अवसर है जब अवैध राष्ट्र और सऊदी अरब के बीच सीधी वार्ता हो रही है । खलीज ऑनलाइन और इस्राईल टुडे के अनुसार काहिरा की निगरानी में तीनों देशों के वरिष्ठ अधिकारियों के बीच काहिरा में बातचीत चल रही है । फिलिस्तीनी अधिकारियों के अनुसार तीनों देशों ने कई ऐजेंडों पर बात की जिसमे क़ुद्स पर ट्रम्प के हालिया निर्णय को लागू करने पर भी विचार किया गया । ज्ञात रहे कि इस से पहले स्पेन के समाचार पत्र ने भी कहा था कि सऊदी अरब और ज़ायोनी राष्ट्र के बीच सैन्य सहयोग जारी है तथा दोनों देशों के सैन्य अधिकारी आपस में मुलाक़ाते करते रहे हैं । वहीँ 8 मार्च को ज़ायोनी समाचार पत्र ने भी कहा था कि फिलिस्तीन संकट के हल और ईरान के खतरे से निपटने के लिए सऊदी अरब और इस्राईल के बीच सहमति बन चुकी हैं ।
 ............


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

संयुक्त राष्ट्र के प्रस्ताव का सम्मान करते हैं लेकिन इस्राईल की नकेल कसो : लेबनान दक्षिण कोरिया ने आंग सान सू ची से ग्वांगजू पुरस्कार वापस लेने का फैसला किया । सूडान ने इस्राईल के अरमानों पर पानी फेरा, संबंध सामान्य करने से किया इंकार । हज़रत फ़ातिमा मासूमा स.अ. सऊदी अरब का अमेरिका को कड़ा संदेश, हमारे मामले में मुंह बंद रखे सीनेट । इदलिब की आज़ादी प्राथमिकता, अतिक्रमणकारियों को सीरिया से भागना ही होगा : दमिश्क़ हाउस ऑफ़ लॉर्ड्स की मांग, अमेरिका से राजनैतिक संबद्धता कम करे इंग्लैंड। अवैध राष्ट्र ने लगाई गुहार, लेबनान सेना पर दबाव बनाए अमेरिका । अमेरिकी गठबंधन आतंकी संगठनों की मदद से सीरिया के तेल संपदा को लूटने में व्यस्त । मासूमा ए क़ुम स.अ. की शहादत के शोक में डूबा ईरान, क़ुम समेत देश भर में मातम । अमेरिका ने स्वीकारा, असद को पदमुक्त करना उद्देश्य नहीं । सिर्फ दो साल, और साठ हज़ार लोगों की जान ले चुका है यमन संकट । हमास ने दिया इस्राईल को गहरा झटका, पकडे गए ड्रोन विमानों का क्लोन बनाया । आले सऊद की काली करतूत, क़तर पर हमला कर हड़पने की साज़िश का भंडाफोड़ । रूस मामलों में पोम्पियो की कोई हैसियत नहीं, अमेरिका की विदेश नीति का भार जॉन बोल्टन के कंधों पर : लावरोफ़