Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 192564
Date of publication : 12/3/2018 6:35
Hit : 749

ब्रिटेन की मरजईयत के विरूध्द साज़िशें और ब्रिटिश आयतुल्लाह सय्यद जैकॉक ।

यह ब्रिटिश जासूस या कहें कि ब्रिटिश आयतुल्लाह एक दिन मस्जिद में आया और आकर कहने लगा लोगों मैंने इमाम अली अ.स. को ख़्वाब में देखा है उन्होंने मेरे कंधे पर अपना हाथ रखते हुए कहा कि लोगों से कहो कि वह इस काले पदार्थ {तेल } से दूर ही रहें, सय्यद जैकॉक ने अपनी बात को सच्चा साबित करने के लिए अपनी अबा काबा उतार कर फेंक दी और अपने कंधे पर हाथ का निशान दिखाया जिसके बारे में विवरण देते हुए उसने बाद में लिखा था कि उसने एक विशेष प्रकार के कागज़ को हाथ के पंजे के आकार में काटने के बाद उसे अपने कंधे पर रखकर साऊथ ईरान की गर्मियों में उस समय तक धूप में बैठा रहा जब तक उस काग़ज़ के टुकड़ें जलकर राख नहीं हो गए और वह हाथ का निशान उसकी पीठ पर उभर आया ।

विलायत पोर्टल :  आज से लगभग 150 साल पहले ईरान पर क़ाबिज़ ब्रिटेन की एक टोबैको कंपनी के खिलाफ एक शिया मुज्तहिद और मरजा ए तक़लीद के आधी लाइन में लिखे एक फतवे के कारण पूरा ब्रिटेन घुटनों पर आ गया था । जिसके महत्त्व को बयान करते हुए इमाम खुमैनी र.ह. ने कहा था कि आयतुल्लाह मीरज़ा ए शीराज़ी की इस आधी लाइन ने पूरे देश को दुश्मन के हलक़ से बाहर खींच लिया है ।
लेकिन यह भी सच है कि इस घटना के बाद से ही दुश्मन ने मरजईयत की ताक़त का अंदाज़ा लगाकर शियत के इस अभेद क़िले में सेंध लगाने की भरपूर कोशिश शुरू कर दी जिस में उन्हें आज से पहले भी किसी हद तक कामयाबी भी मिलती रही है । अतीत में ऐसा ही एक उदाहरण है सय्यद जैकॉक जो एक ब्रिटिश जासूस था जिस ने ईरान में तेल के बड़े बड़े भंडार मिलने के बाद तेल के हराम होने का ही फतवा दे दिया था । सूत्रों के अनुसार आयतुल्लाह सय्यद जैकॉक के नाम से मशहूर होने वाला मिस्टर जैकॉक ईरान के काजारिया वंश के शासन काल में ईरान से तेल का कारोबार करने वाले अंग्रेज़ कारोबारी मिस्टर विलियम नेक्स डार्सी का एजेंट था जिसने 99 साल तक मस्जिदे सुलेमानिया में स्थित तेल भंडारों को ईरान सरकार से लीज़ पर हासिल किया था ।
वह शुरू में एक गूंगे और बहरे चरवाहे के रूप में बख्तियारी समाज के बीच रहता था ताकि उनके कल्चर और रस्मो रिवाज को समझ सके जिस के बाद वह तेल और खनिज संपदा से मालामाल मस्जिदे सुलेमानिया में एक बख्तियारी के रूप में रहने के लिए पहुँच गया यहाँ रहने के दौरान उसने नज़रबंदी और अन्य कई करतब दिखा कर लोगों के बीच अपनी एक अलग पहचान बना ली और समाज के सामने अपने आपको एक शिया आलिम के रूप में पेश किया और फ़िक़्ह की तालीम हासिल करने में जुट गया । वह अपनी छड़ी का इशारा कर के अपने जूते को एक जगह जमा कर लेता था और इसी बात को अपना चमत्कार बताता था जिसके बारे में उसने बाद में विवरण देते हुए अपनी डायरी में लिखा था कि उसने अपनी छड़ी में एक मैगनेट फिट कर रखा था जिस के इशारे से वह अलग अलग रखे अपने जूतों को एक जगह कर लेता था ।
उसका दूसरा ड्रामा भी इसी छड़ी को लेकर था मशहूर था कि वह जिसे यह छड़ी मारता था उसे करंट लगता था , सय्यद जैकॉक का दावा था कि यह पता करने के लिए कि कौन हलालज़ादा है और कौन हरामज़ादा, यह छड़ी सबसे अच्छा माध्यम है ।
वह इस बात का फायदा उठा कर समाज में अपने विरोध में आने वाले लोगों या जिन्हे अपने मिशन के लिए रुकावट या खतरा समझता था उनकी छवि धूमिल करता था तथा इस प्रकार समाज में उनकी इज़्ज़त से खिलवाड़ कर उन्हें लोगों की नज़रों में गिरा देता था , बाद में इस राज़ से पर्दा उठा कि इस ब्रिटिश आयतुल्लाह की छड़ी में ड्राई सेल मौजूद थे और जैकॉक जिसे चाहता था उसके बदन पर छड़ी रख कर बटन दबा देता था जिस कारण लोगों को बिजली का झटका लगता था ।
वह भरी सभा में माचिस जलाकर आम लोगों को झूठा बताता था ओर कहता था कि जो भी झूठा होगा उसे यह आग नहीं जला सकती और जलती हुई आग अपनी दाढ़ी पर लगा लेता था और लोगों को भी अपनी सच्चाई परखने के लिए उभारता था इस प्रकार जैकॉक ने बहुत बार आम लोगों की दाढ़ियां जलाई बाद में राज़ से पर्दा उठा कि जैकॉक की दाढ़ी नक़ली थी और फायरप्रूफ भी ।
इन सब घटनाओं के बाद जैकॉक ने उलमा का लिबास पहना और अम्मामा लगाने लगा, वह लोगों को नसीहत करने के लिए बड़े बड़े जलसे करता और अंत में आले मोहम्मद स. अ. के मसायब भी बयान करता तथा मसायब के बीच मौक़ा देखकर अपना अम्मामा आग में फेंक देता था, अम्मामा नहीं जलता था और जैकॉक इसे भी अपना मोजेज़ा बताता, वह अपने अलावा किसी और को भी सय्यद मानने पर तैयार न होता क्योंकि बाक़ी उलमा का अम्मामा जल जाता था यहाँ से वह सय्यद जैकॉक के नाम से मशहूर हो गया ।
यह ब्रिटिश जासूस या कहें कि ब्रिटिश आयतुल्लाह एक दिन मस्जिद में आया और आकर कहने लगा लोगों मैंने इमाम अली अ.स. को ख़्वाब में देखा है उन्होंने मेरे कंधे पर अपना हाथ रखते हुए कहा कि लोगों से कहो कि वह इस काले पदार्थ {तेल } से दूर ही रहें, सय्यद जैकॉक ने अपनी बात को सच्चा साबित करने के लिए अपनी अबा काबा उतार कर फेंक दी और अपने कंधे पर हाथ का निशान दिखाया जिसके बारे में विवरण देते हुए उसने बाद में लिखा था कि उसने एक विशेष प्रकार के कागज़ को हाथ के पंजे के आकार में काटने के बाद उसे अपने कंधे पर रखकर साऊथ ईरान की गर्मियों में उस समय तक धूप में बैठा रहा जब तक उस काग़ज़ के टुकड़ें जलकर राख नहीं हो गए और वह हाथ का निशान उसकी पीठ पर उभर आया ।
ईरान में तेल का राष्ट्रीयकरण होने के बाद जैकॉक बख्तियारी समुदाय के बीच घूमता फिरता था और कहता था कि ए क़ौम तेरे दिल पर इश्क़े अली अ.स. की मोहर लगी है तुझे तेल की क्या आवश्यकता है ?
कहा जाता है कि जैकॉक के धोखे में आये लोग तेल के राष्ट्रीयकरण के बाद हाथों में परचम लिए हुए जगह जगह अली अली की सदाएं देते हुए इमामज़ादों पर जाते थे और माफ़ी मांग कर अपनी निजात की दुआएं करते थे ।
 .......................


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

संयुक्त राष्ट्र के प्रस्ताव का सम्मान करते हैं लेकिन इस्राईल की नकेल कसो : लेबनान दक्षिण कोरिया ने आंग सान सू ची से ग्वांगजू पुरस्कार वापस लेने का फैसला किया । सूडान ने इस्राईल के अरमानों पर पानी फेरा, संबंध सामान्य करने से किया इंकार । हज़रत फ़ातिमा मासूमा स.अ. सऊदी अरब का अमेरिका को कड़ा संदेश, हमारे मामले में मुंह बंद रखे सीनेट । इदलिब की आज़ादी प्राथमिकता, अतिक्रमणकारियों को सीरिया से भागना ही होगा : दमिश्क़ हाउस ऑफ़ लॉर्ड्स की मांग, अमेरिका से राजनैतिक संबद्धता कम करे इंग्लैंड। अवैध राष्ट्र ने लगाई गुहार, लेबनान सेना पर दबाव बनाए अमेरिका । अमेरिकी गठबंधन आतंकी संगठनों की मदद से सीरिया के तेल संपदा को लूटने में व्यस्त । मासूमा ए क़ुम स.अ. की शहादत के शोक में डूबा ईरान, क़ुम समेत देश भर में मातम । अमेरिका ने स्वीकारा, असद को पदमुक्त करना उद्देश्य नहीं । सिर्फ दो साल, और साठ हज़ार लोगों की जान ले चुका है यमन संकट । हमास ने दिया इस्राईल को गहरा झटका, पकडे गए ड्रोन विमानों का क्लोन बनाया । आले सऊद की काली करतूत, क़तर पर हमला कर हड़पने की साज़िश का भंडाफोड़ । रूस मामलों में पोम्पियो की कोई हैसियत नहीं, अमेरिका की विदेश नीति का भार जॉन बोल्टन के कंधों पर : लावरोफ़