Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 196707
Date of publication : 29/11/2018 19:3
Hit : 306

इस्राईल और सऊदी अरब के ख़िलाफ़ उठने वाली आवाज़ को दबाना अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का रोना रोने वालों का नया हथकंडा

हाल ही में ट्विटर ने फिर एक मुहिम चलाई तथा सऊदी अरब और इस्राईल के अपराधों को सामने लाने वाले हैंडल और अकाउंट को छांट छांट कर सिलेसिलेवार सस्पेंड किया जा रहा है ।
विलायत पोर्टल :  प्राप्त जानकारी के अनुसार अमेरिका समेत पश्चिमी जगत जहाँ एक ओर अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के नाम पर दुनिया भर को नसीहतें करते नज़र आते हैं वहीँ बात जब फिलिस्तीन और मिडिल ईस्ट में खून की नदियां बहाने वाले मौत के सौदागर अवैध राष्ट्र इस्राईल और मानवाधिकारों को ठेंगा दिखाकर यमन, सीरिया, लीबिया, अफ़ग़ानिस्तान और इराक समेत दुनिया भर एक कई देशों में मौत का नंगा नाच और आतंकवाद की नर्सरियां फ़ैलाने वाले सऊदी अरब की होती है तो यह आज़ादी का ढोल पीटने वाले देश तथा उनकी प्रचार इकाई के रूप में काम करने वाले सोशल मीडिया के प्लेटफार्म फिर चाहे वह फेसबुक हो या ट्विटर सब सच्चाई को छुपाने में दिन रात एक कर देते हैं तथा सच्चाई की आवाज़ को दबाने के लिए सारे हथकंडे अपना लेते हैं । हाल ही में ट्विटर ने फिर एक मुहिम चलाई तथा सऊदी अरब और इस्राईल के अपराधों को सामने लाने वाले हैंडल और अकाउंट को छांट छांट कर सिलेसिलेवार सस्पेंड किया जा रहा है ।

इस से पहले फेसबुक भी हिज़्बुल्लाह समेत कई हैंडल को बंद कर चुका है वहीँ सय्यद हसन नसरुल्लाह की तस्वीर पोस्ट करने पर भी फेसबुक कई पोस्ट को बिना बताये डिलीट कर चुका है ।

.........................


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

बहादुर ख़ानदान की बहादुर ख़ातून यह 20 अरब डॉलर नहीं शीयत को नाबूद करने की साज़िश की कड़ी है पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची