Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 196804
Date of publication : 4/12/2018 16:13
Hit : 377

हिज़्बुल्लाह के ख़ौफ़ से अमेरिका की शरण में पहुंचे नेतन्याहू

इस्राईल को जो डर सबसे ज़्यादा सता रहा है वह है हिज़्बुल्लाह के जवाबी हमले, जिसके बारे में कुछ दिन पहले ही हिज़्बुल्लाह वीडियो संदेश जारी कर चेतावनी दे चुका है और 80% इस्राईली नागरिक सय्यद हसन नसरुल्लाह की सच्चाई पर आँख मूँद कर भरोसा करते हैं ।
विलायत पोर्टल :  प्राप्त जानकारी एक अनुसार मिडिल ईस्ट के क़साई के नाम से कुख्यात इस्राईल के प्रधानमंत्री नेतन्याहू एक ओर जहाँ भ्रष्टाचार के मामलों में फंसे हुए हैं वहीँ दूसरी ओर हिज़्बुल्लाह का ख़ौफ़ किसी भी पल चैन नहीं लेने दे रहा है । ताज़ा घटनक्रम के अनुसरा ज़ायोनी प्रधानमंत्री अमेरिकी विदेश मंत्री से मुलाक़ात करने के लिए ज़ायोनी ख़ुफ़िया एजेंसी की वरिष्ठ अधिकारीयों के साथ पहुंचे हैं रायुल यौम के प्रधान संपादक अब्दुल बारी अटवान के अनुसार ज़ायोनी नेता सीरिया और हिज़्बुल्लाह एक ख़िलाफ़ व्यापक हमलों की साज़िश पर अमेरिका की मोहर लगवाने के इरादे से पोम्पियो की शरण में पहुंचे हैं।
रिपोर्ट के अनुसार जानकारों का मानना है कि भ्रष्टाचार के मामले में फंसे नेतन्याहू पुलिस कार्रवाई और अदालत की ओर से अपने ख़िलाफ़ कोई कार्रवाई करने से पहले ही कोई बड़ा क़दम उठाना चाहते हैं वह पूर्व ज़ायोनी नेता एहुद ओलमर्ट जैसी हालत में नहीं पहुंचना चाहते तो अदालत से सजा पाने के बाद 7 साल तक जेल की हवा खाते रहे हैं । रिपोर्ट के अनुसार सीरिया और हिज़्बुल्लाह पर संभावित हमलों की अवस्था में इस्राईल को अमेरिका से संयुक्त राष्ट्र में राजनैतिक और बहुत संभव है सैन्य सहायता की आशा लेकर नेतन्याहू पोम्पियो से भेंट कर रहे हैं । याद रहे कि हाल ही में इस्राईल ने सीरिया पर हमले में S-300 के डर से अपने युद्धक विमानों का प्रयोग नहीं किया था नेतन्याहू का प्रयास होगा कि वह किसी भी संभावित युद्ध में अमेरिका से F-35 को प्रयोग करने की इजाज़त ले लें जिसके बारे में कहा जाता है कि रूस का यह एंटी एयर क्राफ्ट सिस्टम F-35 को पकड़ने में सक्षम नहीं है । S-300 और F-35 को लेकर यह बात कितनी सही है यह तो आने वाला समय बताएगा लेकिन इस्राईल को जो डर सबसे ज़्यादा सता रहा है वह है हिज़्बुल्लाह के जवाबी हमले, जिसके बारे में कुछ दिन पहले ही हिज़्बुल्लाह वीडियो संदेश जारी कर चेतावनी दे चुका है और 80% इस्राईली नागरिक सय्यद हसन नसरुल्लाह की सच्चाई पर आँख मूँद कर भरोसा करते हैं ।
....................


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

बहादुर ख़ानदान की बहादुर ख़ातून यह 20 अरब डॉलर नहीं शीयत को नाबूद करने की साज़िश की कड़ी है पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची