Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 196828
Date of publication : 5/12/2018 5:36
Hit : 424

ईरान चाह जाए तो अमेरिका फ़ारस की खाड़ी में क़दम भी नही रख सकता : माइकल जोंस

कल्चर वॉर के कॉलमनिस्ट जोंस ने कहा कि अगर ईरान के सुप्रीम लीडर आदेश दें तो ईरान सेना अमेरिकन एयरक्राफ्ट कैर्रिएर जॉन स्टेनिस को खाड़ी में क़दम भी न रखने दे ।
विलायत पोर्टल :  प्राप्त जानकारी के अनुसार अमेरिका की मशहूर पत्रिका कल्चर वॉर के कॉलमनिस्ट तथा अमेरिका के विख्यात सैन्य विशेषज्ञ माइकल जोंस ने कहा है कि ईरान फ़ारस में खाड़ी मे अमेरिका एक रास्तों को बंद करने में सक्षम है वह इस क्षेत्र में अमेरिका के विमानवाहक युद्धपोत को बंदी में सक्षम है । उन्होंने कहा कि आज के समय में विमानवाहक युद्धपोत युद्ध के एक नए रूप में परिवर्तित हो चुके हैं ईरान चाहे तो फ़ारस की खाड़ी में आने वाले युद्धपोतों का रास्ता रोक सकता है और उन्हें खाड़ी से बाहर निकलने का भी रास्ता न दे । कल्चर वॉर के कॉलमनिस्ट जोंस ने कहा कि अगर ईरान के सुप्रीम लीडर आदेश दें तो ईरान सेना अमेरिकन एयरक्राफ्ट कैर्रिएर जॉन स्टेनिस को खाड़ी में क़दम भी न रखने दे । याद रहे कि अगले कुछ सप्ताह में अमेरिकी युद्धक विमान अमेरिका की क्षेत्र में मौजूद सभी कश्तियों के साथ फारस की खाड़ी में पहुँच रहा है ।
................................


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

बहादुर ख़ानदान की बहादुर ख़ातून यह 20 अरब डॉलर नहीं शीयत को नाबूद करने की साज़िश की कड़ी है पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची