Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 197490
Date of publication : 20/1/2019 14:46
Hit : 387

हसन नसरुल्लाह ने इस्राईली मीडिया को खिलौना बना दिया, हिज़्बुल्लाह की स्ट्रैटजी के आगे ज़ायोनी मीडिया फेल ।

हसन नसरुल्लाह और उनकी चुप्पी को लेकर अवैध राष्ट्र में इतनी बेचैनी थी कि हालिया दिनों में सोशल मीडिया पर उन्हें सबसे अधिक सर्च किया गया ज़ायोनी चैनल 12 ने कहा कि हालिया दिनों में नसरुल्लाह शब्द इस्राईल में गूगल पर सबसे अधिक सर्च किया गया
विलायत पोर्टल :  प्राप्त जानकारी के अनुसार अवैध राष्ट्र में जारी अंदरूनी संकट से निपटने के लिए लेबनान बॉर्डर पर चलाये गए उत्तरी शील्ड अभियान पर हसन नसरुल्लाह की चुप्पी और ज़ायोनी मीडिया के तमाम प्रयास के बाद भी हिज़्बुल्लाह की ओर से छाई ख़ामोशी ने तल अवीव में चिंता की लकीरें गहरा दी हैं जिसे खत्म करने के लिए इस्राईली मीडिया को दुष्प्रचार और झूठे प्रोपगेंडों का साहारा भी लेना पड़ा लेकिन इन सब हरकतों ने ज़ायोनी मीडिया की विश्वसनीयता पर गहरा प्रश्न चिन्ह लगा दिया है । अवैध राष्ट्र ने हसन नसरुल्लाह की बीमारी और उनके तेहरान हॉस्पिटल में एडमिट होने से लेकर उनकी मौत तक की अफवाह फैलाई हसन नसरुल्लाह और उनकी चुप्पी को लेकर अवैध राष्ट्र में इतनी बेचैनी थी कि हालिया दिनों में सोशल मीडिया पर उन्हें सबसे अधिक सर्च किया गया ज़ायोनी चैनल 12 ने कहा कि हालिया दिनों में नसरुल्लाह शब्द इस्राईल में गूगल पर सबसे अधिक सर्च किया गया । अवैध राष्ट्र में फैली यह बेचैनी यह बताने के लिए पर्याप्त है कि इस्राईल के राजनैतिक हलकों से लेकर आम जान मानस तक हसन नसरुल्लाह का कितना प्रभाव है । अरब जगत के वरिष्ठ पत्रकार अब्दुल बारी अतवान के अनुसार सय्यद हसन नसरुल्लाह इस्राईल के हालिया अभियान पर इस लिए भी चुप हैं कि वह ज़ायोनी सेना के उत्तरी शील्ड अभियान को कोई महत्त्व नहीं देते । वहीँ ज़ायोनी समाचार पत्र यदीऊत अहारनूत का कहा है कि जल्द ही हसन नसरुल्लाह अपने किसी संबोधन में ज़ायोनी मीडिया का उपहास उड़ाते हुए नज़र आ सकते हैं ।
..............


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

यह 20 अरब डॉलर नहीं शीयत को नाबूद करने की साज़िश की कड़ी है पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची इस्लामी इंक़ेलाब की सुरक्षा ज़रूरी , आंतरिक और बाह्र्री दुश्मन कर रहे हैं षड्यंत्र : आयतुल्लाह जन्नती