Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 197583
Date of publication : 6/2/2019 15:52
Hit : 232

क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम ।

वैन क्लावेरेन पीवीवी सदस्य के रूप में इस्लाम के मुखर आलोचक थे, देश की संसद में बुर्का- और मीनार पर प्रतिबंध का समर्थन करते थे और इस्लाम को आतंक, मृत्यु और विनाश की विचारधारा के रूप में संदर्भित करता थे। 39 वर्षीय वैन क्लावेरेन ने कहा कि वह अपनी रिसर्च के दौरान इस्लाम की बहुत से बातों से परिचित हुए जिन से वह अनजान थे तथा वह इन बातों से इतना प्रभावित हुए कि उन्होंने इस्लाम धर्म को स्वीकार कर लिया ।
विलायत पोर्टल : प्राप्त जानकारी के अनुसार जोर्म वैन क्लावेरेन (Joram van Klaveren) को फ्रीडम पार्टी के नेता गीर्ट वाइल्डर्स का विश्वासपात्र माना जाता है, जिन्होंने इस्लाम को एक झूठ के रूप में करार दिया था और इस्लाम के ख़िलाफ़ आलोचनात्मक पुस्तक लिखना शुरू करते हुए पार्टी फॉर फ्रीडम के साथ इस्लाम के खिलाफ अभियान चलाया था लेकिन इसी दौरान उन्होंने एक नया मोड़ लिया और उसी धर्म की वकालत करने की प्रतिज्ञा की जिसे उन्होंने बुरा कहा था। देश के बिजनेस समाचार पत्र NRC हैंड्सलबैड के साथ हाल ही में एक साक्षात्कार में, डच दक्षिणपंथी फ्रीडम पार्टी (PVV) के पूर्व प्रमुख लोगों मे से एक और उसके हेड जेरेट वाइल्डर्स के एक कथित दक्षिणपंथी समर्थक , जोरम वैन ब्लेवरन ने खुलासा किया है कि उन्होनें इस्लाम धर्म अपना लिया है,तथा उन्होंने अक्टूबर 2018 में कलमा पढ़ लिया है। इससे पहले वैन क्लावेरेन पीवीवी सदस्य के रूप में इस्लाम के मुखर आलोचक थे, देश की संसद में बुर्का- और मीनार पर प्रतिबंध का समर्थन करते थे और इस्लाम को आतंक, मृत्यु और विनाश की विचारधारा के रूप में संदर्भित करता थे। 39 वर्षीय वैन क्लावेरेन ने कहा कि वह अपनी रिसर्च के दौरान इस्लाम की बहुत से बातों से परिचित हुए जिन से वह अनजान थे तथा वह इन बातों से इतना प्रभावित हुए कि उन्होंने इस्लाम धर्म को स्वीकार कर लिया । उन्होंने इस्लाम स्वीकारने के बाद एक पुस्तक लिख कर अपने अतीत के बारे में बयान करते हुए कहा कि उनका इस्लाम विरोधी रुख गलत था ।
......................


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

यह 20 अरब डॉलर नहीं शीयत को नाबूद करने की साज़िश की कड़ी है पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची इस्लामी इंक़ेलाब की सुरक्षा ज़रूरी , आंतरिक और बाह्र्री दुश्मन कर रहे हैं षड्यंत्र : आयतुल्लाह जन्नती